मध्य प्रदेश कांग्रेस में लोकसभा समीक्षा बैठकों के बहाने संगठनात्मक बदलाव का सर्वे

भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के पांच महीने बाद ही लोकसभा चुनाव में मिली हार की अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रभारी सचिवों द्वारा समीक्षा की जा रही है। संगठनात्मक सर्वे के लिए बैठक में शामिल होने वाले नेताओं से प्रदेश कांग्रेस प्रमुख और अन्य बदलाव को लेकर भी सवाल किए जा रहे हैं। अब तक मालवा-निमाड़ और बुंदेलखंड-विंध्य की सीटों के परिणामों की प्रभारी सचिव समीक्षा कर चुके हैं, जिनमें इन तथ्यों की जानकारी भी जुटा ली गई है।
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के प्रभारी सचिव संजय कपूर और सुधांशु त्रिपाठी ने पिछले दिनों अपने-अपने क्षेत्राधिकार की लोकसभा सीटों की समीक्षा की थी। इनमें विधायक, लोकसभा व विधानसभा चुनाव हारे प्रत्याशी और जिला अध्यक्षों को बुलाकर बातचीत की गई थी।
सूत्रों ने बताया कि हार की समीक्षा में कई नेताओं ने अब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संगठनात्मक बदलाव की जरूरत भी बताई। इसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से शुरुआत किए जाने की बात कही गई।
सूत्रों ने बताया कि समीक्षा में हार के कारणों पर नेताओं ने स्थिति बताई तो उससे ज्यादा संगठन पर अपनी बात रखी। इसमें कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह, अरुण यादव, अजय सिंह, राजेंद्र सिंह से लेकर रामनिवास रावत, जीतू पटवारी, बाला बच्चन के नामों को लेकर लोगों ने राय दी।
बुंदेलखंड के नेताओं ने कमलनाथ-सिंधिया के साथ अजय सिंह को अपनी पसंद का नेता बताते हुए प्रदेश कांग्रेस की कमान उनके हाथ में सौंपने की बात कही तो मालवा में नाथ-सिंधिया के साथ अरुण यादव का नाम भी नए प्रदेश अध्यक्ष के लिए लिया गया।
हालांकि इस संबंध में अधिकृत तौर पर पार्टी के पदाधिकारी टिप्पणी करने से बच रहे हैं। हालांकि वे यह जरूर स्वीकार कर रहे हैं कि समीक्षा बैठक में नेताओं ने अपनी तरफ से प्रदेश अध्यक्ष के लिए अपनी पसंद का नाम बताते हुए उसके पीछे अपने कारण भी गिनाए।
भिंड के कांग्रेसजनों ने हाईकमान को भेजा पत्र
अभी ग्वालियर-चंबल, महाकोशल और भोपाल के आसपास के मध्य भारत के लोकसभा क्षेत्रों की हार की समीक्षा नहीं हुई है। ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में तो सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के लिए कांग्रेस नेता व कार्यकर्ता अभियान भी चला रहे हैं। भिंड जिले के कुछ कांग्रेसजनों ने तो हाईकमान को पत्र भी भेज दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *