कुकर फटने से झुलसी दुल्हन की पुलिस ने उठवाई डोली

बैतूल/चिचोली। मुम्बईया फिल्म विवाह की रील कहानी सोमवार को बैतूल जिले के चिचोली विकासखंड के अंतर्गत आने वाले ग्राम गढ़ा में रियल स्टोरी में बदल गई। विवाह फिल्म में एक आग में झुलसी हुई दुल्हन की शादी अस्पताल से कराई जाती है। वहीं ग्राम गढ़ा में शादी के ठीक एक दिन पहले कुकर फटने से झुलसी दुल्हन की शादी भी पुलिस की समझाईश के बाद ना सिर्फ हुई बल्कि वर पक्ष ने विवाह के पश्चात् दुल्हन को जिला अस्पताल में भर्ती भी कराया है, जहां उसका उपचार चल रहा है। जीती-जागती इंसानियत का सशक्त उदाहरण दूसरा नहीं हो सकता है। फिलहाल दुल्हन के पास दुल्हे के माता-पिता भी मौजूद है।
शादी के एक दिन पहले हुआ हादसा
प्राप्त जानकारी के अनुसार बैतूल जिले के चिचोली विकासखंड के अंतर्गत आने वाले ग्राम गढ़ा निवासी शकरू चौहान (बंजारा) की पुत्री राधिका चौहान का विवाह ग्राम भरतपुर तहसील सिवनी मालवा जिला-होशंगाबाद के साथ 13 मई को होना तय हुआ था। वधू पक्ष द्वारा जोरदार से विवाह की तैयारी की जा रही थी वहीं वर पक्ष भी बारात लेकर ग्राम गढ़ा लेकर आने की पूरी तैयारी कर चुका था। इसी बीच विवाह के एक दिन पहले 12 मई को भोजन पका रही दुल्हन के घर में कुकर फटा और दुल्हन उसमें झुलस गई। दुल्हन को आनन-फानन में परिजनों ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया और विवाह के दिन 13 मई विवाह कराने अस्पताल से छुट्टी करवा ली।
दरवाजे पर खड़ी बारात को दी समझाईश
13 मई को राधिका का विवाह सुनील पिता लखन वंजारा निवासी भरतपुर के साथ होना था। 12 मई को दुल्हन कुकर फटने से झुलस गई। घटना से अंजान वर पक्ष बारात लेकर ग्राम गढ़ा पहुंच गया। यहां पर विवाह की रस्में अदा की जा रही थी इसी बीच किसी ने वर पक्ष को बता दिया कि दुल्हन कुकर फटने से झुलस गई है जिसमें दुल्हन का चेहरा भी झुलस गया। यह सुनते ही पहले तो वर पक्ष द्वारा विवाह करने में संकोच किया गया लेकिन इसी बीच किसी ने डायल 100 को फोन कर दिया तो चिचोली टीआई आरडी शर्मा भी ग्राम गढ़ा पहुंच गए और वर पक्ष को दरवाजे पर खड़ी बारात को विवाह करने के लिए समझाईश दी।
विवाह कर दुल्हन को कराया पुन: भर्ती
वर पक्ष को चिचोली टीआई आरडी शर्मा द्वारा दी गई समझाईश का असर हुआ और वर पक्ष कुकर की आग में झुलसी राधिका चौहान के साथ विवाह करने को तैयार हो गए। दुल्हा सुनील पिता लखन वंजारा ने राधिका के साथ विवाह की सभी रस्में पूरी की और बकायदा दुल्हन को विदा भी कराया और जिला अस्पताल में पूरा उपचार कराने के लिए भर्ती भी कराया और बारात लेकर अपने ग्राम भरतपुर चला गया। फिलहाल दुल्हन के पास दुल्हे के माता-पिता और दुल्हन के माता-पिता मौजूद है। सुनील मंगलवार को पुन: जिला अस्पताल आएगा।
पुलिस-वर पक्ष की हो रही सराहना
इस घटनाक्रम के बाद भी विवाह के लिए तैयार कराने वाली पुलिस और विवाह करने वाले वर पक्ष की सर्वत्र सराहना की जा रही है। वरिष्ठ ग्रामीणों का भी यही कहना था कि घटना किसी भी वक्त, किसी के भी साथ में घटित हो सकती है लेकिन ग्राम गढ़ा में चिचोली टीआई आरडी शर्मा द्वारा दी गई समझाईश के बाद वर पक्ष द्वारा निभाई गई विवाह की रस्में पूर्ण कर दुल्हन को विदा कराकर पुन: उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराने को लेकर सर्वत्र प्रशंसा की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *