एक ही परिवार के 50 सदस्य भोपाल से लेकर इंदौर तक चुरा रहे थे गाड़ियां

भोपाल. भोपाल पुलिस ने एक ऐसे गैंग को पकड़ा है जो भोपाल से लेकर इंदौर तक सक्रिय था. इस गैंग में एक ही परिवार के 50 सदस्य शामिल हैं. फिलहाल दो बदमाश ही पुलिस की पकड़ में आए हैं. उनसे पूछताछ में इस बात का खुलासा हुआ है कि उनकी गैंग इंदौर से लेकर भोपाल तक चोरी और लूट की वारदात को अंजाम देती है. थाना प्रभारी रातीबड़ और उनकी टीम वाहन चोरों पर लगातार नज़र रखे हुए थी. इसमें देवास, सिहोर, शाजापुर जिले के बाइक चोर, कंजर  गिरोह, पुराने वाहन चोरों, वाहन से अपराध करने वाले बदमाशों, लुटेरों और चोरी की बाइक से अवैध लकड़ी ढोने वाले चोरों पर व्हीडीपी पोर्टल से निगरानी रखी जा रही थी. इस पोर्टल के जरिए वाहन चैकिंग के दौरान वाहनों के नंबर की जांच की जाती है और जिस नंबर पर शक होता है पुलिस उन वाहन चालकों से पूछताछ कर मामले की सच्चाई तक पहुंचती है. ऐसी ही एक सूचना पर पुलिस ने सोनकच्छ में रहने वाले कुख्यात वाहन चोर अरूण हाडा और उसके सगे नाबालिग भाई को चोरी की बाइक के साथ साक्षी चौराहे पर पकड़ा था. इनसे पूछताछ में इस गैंग का खुलासा हुआ .

वारदात का तरीका
पकड़े गये बदमाश अरुण हाड़ा और उसके भाई ने बताया कि थाना हाट पिपलिया , भौरासा, सोनकच्च , टोक खुर्द , पिपलरावा जिला देवास , थाना सुर्दशी वेरछा ,सलसलाई , अकोदिया , मोहन वडोदिया,काला पीपल जिला शाजापुर और  थाना इच्छावर जिला सिहोर के विभिन्न गांवों में उनके रिश्तेदार रहते हैं. इनकी संख्या 50 के आसपास है. ये लोग आपसी तालमेल बनाकर मौका देखकर भोपाल से लेकर इन्दौर के बीच आने वाले जिलो में वाहन चोरी, ट्रक कंटिग, लूट जैसी वारदात को अंजाम देते हैं. गैंग के सदस्य बाकायदा कम उम्र के लड़कों को चोरी और लूट की ट्रेनिंग देते हैं और पूरी प्लानिंग के साथ वारदात को अंजाम देते हैं. दो आरोपियों के पास से अभी तक चोरी की कई बाइक बरामद की गई हैं.

ये हैं कमाई के 6 तरीके

  • बाइक को फिरौती के तौर पर 10-15 हजार की राशि लेकर छोड़ देते हैं.
  • नई बाइक के पार्टस को पुरानी बाइक के पार्टस में लगाकर कर नई बाइक बनाकर बेच देते.
  • चोरी की बाइक के इंजन, चेचिस नम्बर को मिटा कर या घिस कर नये इंजन चेचिस नम्बर डाल कर बेच देते हैं.
  • बाइक के सभी पार्टस को अलग अलग दुकानदारों को बेच देते हैं.
  • चोरी की बाइक को आपराधिक प्रवृति के व्यक्तियों को विभिन्न प्रकार के अपराध करने के इरादे से भी बेच देते हैं.
  • चोरी की नयी और महंगी बाइक ये थोड़ी महंगी बेचते थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *