ज्योतिरादित्य सिंधिया से ‘बदला’ लेने आ रही हैं प्रियंका गांधी? पीतांबरा देवी से लेंगी आशीर्वाद

भोपाल। ज्योतिरादित्य सिंधिया हिसाब बराबर करने के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी उनके गढ़ में आ रही हैं। कांग्रेस की तरफ से प्रियंका गांधी का कार्यक्रम कुछ इस तरह से तैयार किया जा रहा है कि 1 तीर से 2 निशाना साधा जा सके। प्रियंका गांधी दतिया जिले में स्थित पीतांबरा देवी के दर्शन के लिए आ रही हैं। पीतांबरा पीठ ग्वालियर-चंबल संभाग में आता है। इस दौरान वह यहां स्थानीय नेताओं से भी मुलाकात और रोड शो करेंगी। दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस छोड़ने के बाद गांधी परिवार पर कई आरोप लगाए थे। इस उपचुनाव में बीजेपी से ज्यादा ज्योतिरादित्य सिंधिया की प्रतिष्ठा दांव पर है। क्योंकि इस बार के लोकसभा चुनाव में वह गुना-शिवपुरी से हार गए थे। 22 विधायकों के साथ बगावत कर उन्होंने एमपी में कमलनाथ की सरकार गिरा दी है। ज्योतिरादित्य सिंधिया का प्रभुत्व सबसे ज्यादा ग्वालियर-चंबल संभाग में ही हैं। ग्वालियर-चंबल में 16 विधानसभा सीट पर उपचुनाव है। कांग्रेस सिंधिया के गढ़ में घेराबंदी की तैयारी कर रही है।
सचिन पायलट के बाद प्रियंका गांधी
कांग्रेस ने इस इलाके में चुनाव प्रचार को लेकर राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को भी न्यौता भेजा है। सचिन ने प्रचार के लिए सहमति भी दे दी है। अब प्रियंका गांधी को एमपी कांग्रेस ने बुलावा भेजा है। प्रियंका गांधी ग्वालियर-चंबल के इलाके में पितांबरा देवी के दर्शन के बहाने आ रही हैं। प्रियंका गांधी अपने एमपी दौरे के दौरान राजस्थान के रास्ते प्रदेश में प्रवेश करेंगी। अभी तक की जानकारी के अनुसार प्रियंका गांधी का कार्यक्रम मुरैना, ग्वालियर और डबरा होते हुए दतिया पहुंचने का है।

6 विधानसभा क्षेत्रों से गुजरेंगी
प्रियंका गांधी अपने दौरे के दौरान 6 विधानसभा क्षेत्रों से होते हुए दतिया स्थित पितांबरा पीठ पहुंचेंगी। इस दौरान वह रास्ते में कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिलते हुए आएंगी। इन छह विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव है। ऐसे में प्रियंका गांधी का यहां रोड शो काफी मायने रखता है। क्योंकि इस इलाके में महाराज का अच्छा-खासा प्रभाव है। 2018 के विधानसभा चुनाव में भी राहुल गांधी ने पितांबरा देवी से आशीर्वाद लेकर चुनावी अभियान की शुरुआत की थी।

प्रियंका गांधी करेंगी हिसाब बराबर
गांधी परिवार को पता है कि एमपी सरकार ज्योतिरादित्य सिंधिया की वजह से ही गिरी है। कांग्रेस भी उसी हिसाब को चुकता करने लिए प्रियंका को उनके क्षेत्र में उतारने की तैयारी कर रही है। हालांकि ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद प्रियंका गांधी ने कभी उनके ऊपर सीधा हमला नहीं किया है। ग्वालियर-चंबल में मजबूत नेतृत्व के संकट से जूझ रही कांग्रेस को प्रियंका गांधी से नई उम्मीद है। हालांकि अभी उनके आने की तारीख पक्की नहीं हुई है।

नहीं होगा कोई फायदा
ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक और बीजेपी नेता शाहवर आलम ने नवभारत टाइम्स.कॉम से बात करते हुए कहा कि प्रियंका गांधी और सचिन पायलट के आने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। देश में प्रदेश में कांग्रेस नेतृत्व की कमी से जूझ रही है। राहुल गांधी अपनी परंपरागत सीट हार गए हैं, वह क्या नेतृत्व करेंगे। यूपी में भी प्रियंका गांधी 2 बार घूमी हैं, क्या परिणाम आया है। ऐसे में एमपी क्या देश में भी कोई फर्क नहीं पड़ेगा। ग्वालियर-चंबल की 16 सीटें हम जीतेंगे।

मिलेगा लाभ
वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने नवभारत टाइम्स डॉट कॉम से बात करते हुए कहा कि प्रियंका गांधी के दौरे का कांग्रेस को लाभ मिलेगा। प्रियंका गांधी पितांबरा पीठ के दर्शन के लिए आ रही हैं। दर्शन के बाद वह इन इलाकों के कांग्रेस नेताओं से मिलेंगी और उनमें जोश भरेंगी। उन्होंने कहा कि ग्वालियर-चंबल के ज्यादातर इलाके यूपी से लगे हैं और वह यूपी की प्रभारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *