एसपी की तेजतर्रार कार्यशैली से महकमें में कसावट, अपराधियों में खौफ

  • दो माह के कार्यकाल में 9 ब्लाइंड मर्डर का खुलासा कर 32 आरोपियों को किया गिरफ्तार
  • 803 जुआरियों- सटोरियों को दबोचकर 10.33 लाख जप्त किये

बैतूल। जिले की पुलिस मुखिया डायरेक्टर आईपीएस ऑफीसर सिमाला प्रसाद की तेज तर्रार कार्यशाली से जहां जिलेभर के पुलिस महकमें में कसावट नजर आ रही है जिससे असामाजिक तत्वों एवं अपराधियों के हौसले पस्त हो गये है। पुलिस अधीक्षक द्वारा लंबित अपराधों के लिए चलाये जा रहे विशेष अभियान एवं रेडियोकॉल के माध्यम से पुलिस अनुविभाग एवं थाना वार प्रतिदिन की जा रही अपराधों की समीक्षा से वर्षो से पेंडिंग गंभीर अपराधों का खुलासा हो रहा है। पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद के दो माह के कार्यकाल में विभिन्न थाना क्षेत्रों की पुलिस ने नौ अंधे कत्लों का पर्दाफाश कर 32 आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय के आदेश पर जेल भेजा गया है। इतना ही नहीं पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर जिलेभर में पुलिस द्वारा सामाजिक बुराई माने जाने वाले अपराधों के खिलाफ सतत अभियान चलाकर दो माह के दौरान 803 जुआरियों एवं सटोरियों के खिलाफ जुआ, सट्टा एक्ट के तहत कार्यवाही कर 10 लाख 33 हजार 443 रूपए जप्त किए गए। पुलिस की छापामार कार्यवाही के चलते जुआ एवं सट्टा खिलाने एवं खेलने वालों में हड़कंप मचा हुआ है।
माइक्रो इन्वेस्टिगेशन कर किया अंधे कत्लों का खुलासा
पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर जिले के सभी एसडीओपी सहित थाना प्रभारी अंधे कत्लों की विवेचना तत्परता से कर जल्द से जल्द अंधे कत्लों का खुलासा कर रहे है। बीते दो माह के दौरान जिले के कोतवाली, चिचोली, आठनेर, बोरदेही थाना क्षेत्रों में घटित नौ अंधे कत्लों का पर्दाफाश कर 32 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। उल्लेखनीय है कि अंधे कत्लों का जल्द से जल्द खुलासा कर आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस ब्लाइंड मर्डर के प्रकरणों की माइक्रो इन्वेस्टिगेशन कर रही है। माइक्रो इन्वेस्टिगेशन के परिणाम स्वरूप बैतूल अतिरिक्त सत्र एवं जिला न्यायाधीश एवं उनके पुत्र की संदिग्ध मौत, चोपना थानांतर्गत डॉक्टर के अंधे कत्ल, बोरदेही थानांतर्गत दो वर्ष पूर्व हुए अंधे कत्ल एवं चिचोली थानांतर्गत जंगल में मिले कंकाल के प्रकरणों में पुलिस ने ब्लाइंड मर्डर का पर्दाफाश कर आरोपियों को सलाखों के पीछे पहुंचाया।
अनैतिक गतिविधियों के खिलाफ की प्रभावी कार्यवाही
पुलिस जिलेभर में अनैतिक गतिविधियां एवं नशे के कारोबारियों के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्यवाही कर रही है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बीते दो माह के दौरान जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों की पुलिस ने आबकारी एक्ट के तहत 688 अपराध पंजीबद्ध कर 785 आरोपियों की गिरफ्तारी कर 5014 लीटर अवैध शराब जप्त की। साथ ही एनडीपीसी के 6 प्रकरणों में 7 क्विंटल मादक पदार्थ गांजा जप्त किया। पुलिस ने जिलेभर में 691 आरोपियों के खिलाफ जुआ एक्ट की कार्यवाही कर 9 लाख 37 हजार 637 रूपए तथा 112 आरोपियों के खिलाफ सट्टा एक्ट की कार्यवाही 95 हजार 806 रूपए जप्त किए। आमजन से यातायात नियमों का पालन करवाकर दुर्घटनाओं पर रोक लगाने के लिए पुलिस ने वाहन चैकिंग के दौरान यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ 5574 चालान बनाकर 18 लाख 81 हजार 250 रूपए शमन शुल्क वसूल किया।
85 नाबालिगों को किया दस्तयाब
हयूमन ट्रेफिकिंग के लिए कुख्यात बैतूल जिले में नाबालिग बालिकाओं के गुम होने एवं अपहरण की वारदातों को चुनौती के रूप में लेकर पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने जिले से गायब अपहृत नाबालिग बालक-बालिकाओं की त्वरित दस्तयाबी के लिए सभी थाना प्रभारियों को निर्देश दिये थे। अनुविभागीय अधिकारियों (पुलिस) के मार्गदर्शन में थाना प्रभारियों ने साइबर सेल से सहयोग लेकर महज दो माह में 85 नाबालिगों को दस्तयाब किया। साथ ही नाबालिगों को बहला फुसलाकर अपहरण करने वालों को अन्य जिलों-प्रदेशों से गिरफ्तार कर न्यायालय के आदेश पर जेल पहुंचाया।
आदतन अपराधियों के खिलाफ पुलिस का रवैया सख्त
जिले में कानून व्यवस्था काम रखने के लिए पुलिस आदतन अपराधियों के खिलाफ सख्त रवैया अख्तियार कर रही है। बीते दो माह के दौरान पुलिस ने जिला बदर के 11 एवं राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत एक प्रकरण जिला दण्डाधिकारी के न्यायालय में प्रस्तुत किए है। चोरियों की वारदातों का खुलासा भी पुलिस जल्द से जल्द करने का प्रयास कर रही है। दो माह के दौरान जिले में हुए 99 चोरी की वारदातों में 73 लाख 79 हजार 345 रूपए का मशरूका चोरी हुआ था। जिसमें से 58 लाख 73 हजार 900 रूपए के मशरूके की बरामदगी पुलिस कर चुकी है।
रेडियो कॉल से प्रतिदिन करती है समीक्षा
पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने बताया कि जिले में कानून व्यवस्था बनाने, अपराधों पर रोकथाम अनैतिक गतिविधियों पर रोकथाम, गंभीर एवं महिला संबंधी अपराधों का त्वरित निराकरण एवं अपराधियों, असामाजिक तत्वों के खिलाफ सख्त कार्यवाही के लिए पुलिस लगातार काम कर रही है। उन्होंने बताया कि वे प्रतिदिन शाम को लगभग एक घंटे रेडियो कॉल के माध्यम से एएसपी, एसडीओपी एवं थाना प्रभारियों से सीधी बात कर अपराधों की सतत समीक्षा करती है एवं अपराधों के निराकरण को लेकर पुलिस अधिकारियों को आवश्यक निर्देश भी देती है। उन्होंने बताया कि अपराधों की रोकथाम एवं आमजन में पुलिस के प्रति भरोसा पैदा करने के लिए कम्यूनिटी पुलिसिंग को भी अपनाया जा रहा है। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि जिले में शांति एवं आमजन की सुरक्षा के लिए पुलिस महकमा संवेदनशीलता से काम कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *