मध्य प्रदेश में मूसलाधार बारिश का दौर जारी : 16 ज़िलों के लिए रेड और बाकी के लिए ऑरेंज-यलो अलर्ट

भोपाल. इंतज़ार बारिश का था लेकिन इंद्रदेव ने अति बारिश कर दी. मध्य प्रदेश के ज़्यादातर इलाके अब भारी बारिश से तरबतर हैं. मौसम विभाग ने प्रदेश के अलग-अलग इलाकों के लिए रेड, यलो और ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. राजधानी भोपाल में लगातार दूसरे दिन अति भारी बारिश हुई. हालात को देखते हुए कलेक्टर और डीआईजी ने शहर का दौरा कर हालात का जायज़ा लिया. कलेक्टर ने अफसरों को सतर्क रहने और आपात स्थिति से निपटने के लिए सारी तैयारी रखने का निर्देश दिया है.

16 जिलों के लिए रेड अलर्ट
मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि प्रदेश में अति भारी बारिश का ये दौर जारी रहेगा. होशंगाबाद ,बैतूल, हरदा ,जबलपुर, नरसिंहपुर, सिवनी के लिए उसने रेड अलर्ट जारी किया है. यानि इन ज़िलों में बेहद तेज़ बारिश होगी.

ऑरेंज अलर्ट
-ऑरेंज अलर्ट-मौसम विभाग ने विदिशा, रायसेन, सीहोर, उज्जैन, देवास, कटनी, छिंदवाड़ा ,मंडला, बालाघाट, पन्ना, सागर, दमोह में अति भारी बारिश की संभावना जताई है.इन ज़िलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है.

यलो अलर्ट
भोपाल ,रीवा, सतना,अनूपपुर, उमरिया, डिंडोरी, छतरपुर, टीकमगढ़ ,राजगढ़, खंडवा, रतलाम ,मंदसौर ,नीमच ,गुना, अशोकनगर, शिवपुरी के लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है.

कलेक्टर-डीआईजी ने देखा शहर का हाल
भोपाल में दो दिन से हो रही भारी बारिश के कारण यहां सभी एसडीएम, तहसीलदार और रेवेन्यू अधिकारियों को अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए गए हैं. भारी बारिश के कारण जलभराव के हालात का जायज़ा लेने के लिए कलेक्टर अवनीश लवानिया और डीआईजी इरशाद वली ने शहर का दौरा किया.अफसरों की टीम ने साकेत नगर, सेफिया कॉलेज, बाल विहार और पुराने भोपाल के क्षेत्रों में भ्रमण किया।का दौरा किया. भोपाल शहर में अधिक बारिश से शहर की स्थिति देखने के लिए कलेक्टर अविनाश लवानिया ने सभी एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार और अन्य अधिकारियों को 24 घंटे अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए हैं.

सतर्क रहें अफसर
कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया है कि जिले में लगातार दो दिन से हो रही बारिश के हालात को देखते हुए सभी अधिकारी अपने क्षेत्रों में लगातार निगाह रखें. लोगों से सतत संपर्क में रहें.कहीं भी जलभराव की स्थिति होने पर तुरंत कार्रवाई करें.नाले के किनारे रहने वाले लोगों को ज़रूरत होने पर तुरंत पास के स्कूल, सार्वजनिक भवन, सामुदायिक भवनों में पहुंचाएं. वहां बिजली,पीने का पानी और खाने की व्यवस्था की तैयारी रखें. रात में अगर किसी नदी या नाले में बाढ़ या पानी भरता है तो तुरन्त कंट्रोल रूम को खबर दें. आसपास की बस्तियों में पानी भरने पर जेसीबी से पानी निकालने के लिए रास्ता बनाएं. पीने की पानी और खाने की व्यवस्था की तैयारी रखें. आवश्यकता होने पर लोगों को पीने का पानी और खाना उपलब्ध कराया जाए.

SDRF की टीम तैनात
कलेक्टर ने कहा है कि ग्रामीण इलाकों पर भी लगातार निगाह रखें.संबंधित अधिकारी इन इलाकों का लगातार दौरा करें. बारिश के हालात का लगातार आंकलन करते रहें. आपात स्थिति से निपटने के लिए एसडीआरएफ की टीम को भी अलर्ट पर रहने के लिए निर्देश दिए गए हैं. कलेक्टर का ये सख्त निर्देश है कि किसी भी स्थिति में किसी की जान न जाए. सुरक्षा के सभी आवश्यक इंतजाम रखे जाएं.सभी अधिकारी अपनी गाड़ियों में टॉर्च, रस्सी और पीने के पानी की बोतलें रखें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *