उपचुनाव में जीत के लिए विघ्नहर्ता के दरबार में अर्जी लगेगी, बीजेपी- कांग्रेस दफ्तर में मनेगा गणेशोत्सव

भोपाल. आज से बप्पा विराज रहे हैं. हालांकि कोरोना संकट के कारण इस बार देश में गणेशोत्सव की हर साल जैसी धूम नहीं रहेगी लेकिन घरों, मंदिरों, प्रतिष्ठानों में गणपति विराजेंगे. उप चुनाव की बेला में गणेशोत्सव बीजेपी और कांग्रेस दफ्तर में भी मनाया जाएगा. दोनों जगह गणेश प्रतिमा की स्थापना की जा रही है.

10 दिन तक चलने वाले गणेश उत्सव की शुरुआत आज से हो रही है. इस बार बीजेपी और कांग्रेस के लिए गणेश उत्सव खासा अहम हो गया है. प्रदेश की 27 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में जीत के लिए बीजेपी और कांग्रेस गणपति को अर्जी लगाकर उपचुनाव अभियान का श्रीगणेश कर रहे हैं. बीजेपी आज ग्वालियर से अपने उप चुनाव अभियान का शंखनाद करने जा रही है तो कांग्रेस भी अपनी तैयारी को धार दे रही है.

यूं तो बीजेपी दफ्तर में लंबे समय से गणपति स्थापना की परंपरा है लेकिन इस बार गणेश उत्सव बीजेपी और कांग्रेस के लिए खासा महत्वपूर्ण है. क्योंकि दोनों सियासी दल 27 सीटों के उपचुनाव संग्राम में उतरने की तैयारी में हैं. यही कारण है कि गणपति को खुश कर जीत की अर्जी लगाने के लिए बीजेपी और कांग्रेस 10 दिन तक गणपति की भक्ति में लीन रहेंगे.

शुभ मुहूर्त
बीजेपी दफ्तर में आज मुहूर्त के मुताबिक गणपति प्रतिमा की स्थापना होगी. शुभ मुहूर्त पर दोपहर 12:30 बजे विधि विधान से पूजा अर्चना के साथ गणेश प्रतिमा की स्थापना की जाएगी. इस मौके पर पार्टी के पदाधिकारी और कार्यालय परिवार के सदस्य मौजूद रहेंगे. प्रदेश के कैबिनेट मिनिस्टर ओमप्रकाश सकलेचा ने कहा गणेश का आशीर्वाद हमेशा से बीजेपी पर रहा है और इस बार बप्पा से उपचुनाव में बीजेपी को सभी 27 सीटों पर जीत दिलाने का आशीर्वाद मिलेगा.

कांग्रेस की ऐतिहासिक परंपरा
स्वाधीनता आंदोलन के दौरान गणपति उत्सव की परंपरा बाल गंगाधर तिलक ने की थी. कांग्रेस उसी परंपरा को निभा रही है.राम दरबार सजाने वाली कांग्रेस अब गणेशोत्सव में गणेश प्रतिमा की स्थापना कर रही है. कांग्रेस मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता का कहना है आज शाम को विधि विधान से शुभ मुहूर्त में गणपति की प्रतिमा स्थापना होगी और 10 दिन तक पीसीसी दफ्तर में गणेश उत्सव होगा. हालांकि इसमें ज्यादा लोगों की भीड़ नहीं जुटाई जाएगी. कांग्रेस उपचुनाव में कांग्रेस पार्टी की जीत, कोविड-19 और किसानों की समस्या सहित दूसरी बाधाओं को दूर करने की कामना करेगी.

सियासी धर्म
प्रदेश में सियासी दलों की धार्मिक आस्था इन दिनों खासी चर्चा में बनी हुई है. अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के दौरान जहां बीजेपी राम मय दिखी तो वहीं कांग्रेस में भी राम दरबार सजाया गया. जन्माष्टमी पर कमलनाथ और शिवराज कृष्ण भक्ति में लीन दिखाई दिए. अब 10 दिन चलने वाले गणेश उत्सव पर भी गणेश उत्सव का रंग सियासी दलों पर नजर आएगा. इसकी शुरुआत ग्वालियर में बीजेपी के चुनाव अभियान से हो रही है. कुल मिलाकर गणपति की कृपा किस पर बरसेगी यह उपचुनाव के नतीजों के बाद ही पता चलेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *