रुचि सोया को पतंजलि आयुर्वेद ने 4325 करोड़ रुपए में खरीदा

इंदौर, नई दिल्ली। योग गुरु बाबा रामदेव के नेतृत्व वाली पतंजलि आयुर्वेद ने कर्ज में लदी खाद्य तेल क्षेत्र की प्रमुख इंदौर की कंपनी रुचि सोया को 4325 करोड़ रुपए में खरीद लिया। सूत्रों ने बताया कि रुचि सोया को कर्ज देने वाली बैंकों व वित्त संस्थाओं ने पतंजलि की बोली मंजूर कर ली है। पतंजलि द्वारा किया गया यह पहला बड़ा अधिग्रहण है।
अडाणी के पीछे हटने से रास्ता साफ : बैंकों ने रुचि सोया पर बकाया 9300 करोड़ रुपए की वसूली के लिए उसकी नीलामी की कार्रवाई शुरू की है। पतंजलि ने इसी के तहत यह अधिग्रहण किया। रुचि सोया के अधिग्रहण में अडाणी विल्मर ने भी इच्छा जताई थी, लेकिन वह पीछे हट गई, हालांकि उसने कुछ माह पहले सबसे ऊंची बोली लगाई थी। अडाणी के पीछे हटते ही पतंजलि द्वारा रुचि सोया के अधिग्रहण का रास्ता साफ हो गया था।
हालांकि पतंजलि ने भी अपनी पूर्ववती बोली में करीब 200 करोड़ रुपए का इजाफा करते हुए यह 4350 करोड़ तक कर दी थी। इसमें कंपनी में किया जाने वाला 1700 करोड़ का निवेश शामिल नहीं था। पतंजलि ने पहले 4160 करोड़ की बोली लगाई थी। रुचि सोया पर वित्तीय संस्थाओं व बैंकों का करीब 9345 करोड़ रुपए बकाया हैं।
पतंजलि ने की पुष्टि
सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को बैंकों ने पतंजलि की 4325 करोड़ रुपए की संशोधित बोली मंजूर कर ली। इस पर बैंकों के 96 फीसदी प्रतिनिधि रजामंद थे। इस बारे में पतंजलि से संपर्क किया गया तो उसने इसकी पुष्टि की। पतंजलि आयुर्वेद के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने कहा, ‘हमें इसकी सूचना मिली है कि वोटिंग हमारे पक्ष में हुई है। बुधवार को बैंक हमें विधिवत सूचना देंगे और उसके बाद हम आगे कदम बढ़ाएंगे।
सोया ऑइल क्षेत्र की बड़ी खिलाड़ी बनेगी पतंजलि
रुचि सोया के अधिग्रहण के साथ ही पतंजलि समूह सोयाबीन ऑइल व अन्य उत्पादों के क्षेत्र की बड़ी कंपनी बन जाएगी। दिसंबर 2017 में नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) ने रुचि सोया की दिवालिया प्रक्रिया (इनसॉल्वेंसी प्रोसिजर) शुरू की थी। यह कार्रवाई शुरू करने के लिए ट्रिब्यूनल को स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक व डीबीएस बैंक ने आवेदन दिया था। इसके निपटारे के लिए शैलेंद्र अजमेरा को रिजोल्यूशन प्रोफेशनल नियुक्त किया गया था। उन्हें रुचि सोया के प्रबंधन के मामले व दिवालिया कार्रवाई पूरी करने का जिम्मे सौंपा गया था।
रुचि सोया के ये हैं प्रमुख ब्रांड
इंदौर व देवास में कार्यरत रुचि सोया के अग्रणी ब्रांडों में न्यूट्रिला, महाकोश, सनरिच, रुचि स्टार व रुचि गोल्ड।
12000 करोड़ का कारोबार है पतंजलि का
पतंजलि का कारोबार हालिया वर्षों में कई गुना बढ़ा है। हालांकि जीएसटी के कारण 2017-18 में उसकी मामूली ग्रोथ हुई और उसका कारोबार 12,000 करोड़ रु. के आसपास रहा। 2016- 17 में कंपनी ने 111% ग्रोथ करते हुए 10,561 करोड़ का कारोबार किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *