भूमिपूजन से पहले अयोध्या पहुंच रहे यूपी सीएम योगी, तैयारियों का लेंगे जायजा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार (आज) अयोध्या आ रहे हैं। वह अयोध्या में 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन की तैयारियों का जायजा लेने वहां पहुंच रहे हैं। बताया जा रहा है कि सीएम मंदिर निर्माण स्थल और उस जगह पर निरीक्षण करेंगे जहां पर भूमि पूजन है। वहां तैयारियों को लेकर अधिकारियों को निर्देश भी देंगे।
पिछले हफ्ते सीएम योगी ने अयोध्या के विकास के लिए हो रहे कार्यों का भी जायजा लिया था। उन्होंने प्रजेंटेंशन के जरिए कार्यों की समीक्षा की थी। अब वह खुद अयोध्या आकर कार्य और तैयारियों को देखेंगे। वह यहां पर रामलला के दर्शन करेंगे और हनुमानगढ़ी भी जाएंगे।

5 अगस्त को है भूमि पूजन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर की आधारशिला रखेंगे। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का बखूबी पालन किया जाएगा। श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र के कोषाध्यक्ष स्वामी गोविंद देव गिरि ने बुधवार को पुणे में कहा कि शिलान्यास समारोह में 150 आमंत्रितों सहित 200 से अधिक लोग शामिल नहीं होंगे।
रामलला के करेंगे दर्शन
स्वामी गोविंद देव गिरि ने कहा कि राम मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रामलला के दर्शन करेंगे। साथ ही अयोध्या में हनुमान गढ़ी मंदिर में हनुमान जी की पूजा-अर्चना करेंगे। उन्होंने बताया कि शिलान्यास समारोह में अलग-अलग राज्यों के सभी मुख्यमंत्रियों को भी आमंत्रित किया जाएगा। अयोध्या में राम जन्मभूमि स्थल पर तीन दिवसीय वैदिक अनुष्ठानों के लिए बड़े स्तर पर तैयारियां की जा रही हैं। अनुष्ठान तीन अगस्त से शुरू होगा और 5 अगस्त को ‘भूमि पूजन’ के साथ ही समाप्त होगा।
लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को भी न्यौता
राम मंदिर ट्रस्ट के एक सदस्य ने बताया कि दिग्गज बीजेपी नेता और पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी और राम जन्मभूमि आंदोलन के अन्य नेताओं को भी समारोह में आमंत्रित किया जाएगा। मंदिर के निर्माण की देखरेख के लिए केंद्र की ओर से बनाए गए ट्रस्ट श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने कहा कि वह पूर्व डिप्टी पीएम लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती और विनय कटियार को आमंत्रित करेंगे।

शिलान्यास समारोह की समय सीमा हिंदू कैलेंडर के अनुसार
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्यगोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास ने कहा, “प्रधानमंत्री के लिए शिलान्यास समारोह की समय सीमा हिंदू कैलेंडर के अनुसार तय की गई है। पांच अगस्त को सबसे शुभ समय (12.15 बजे) है। ‘भूमिपूजन’ के लिए वैदिक अनुष्ठान भगवान गणेश को अर्पित की जाने वाली विशेष पूजा से शुरू होगा। हिंदू अनुष्ठानों के अनुसार, हर शुभ समारोह भगवान गणेश को प्रसाद के साथ शुरू होता है। अगले दिन, पुजारी रामचार्य पूजा करेंगे और अंतिम दिन 5 अगस्त को एक और भूमिपूजन ’किया जाएगा, जिसमें प्रधानमंत्री भाग लेंगे।
रामनगरी अयोध्या में दो घंटे तक रहेंगे पीएम मोदी
बताया कि वाराणसी और अयोध्या के पुजारियों की 11 सदस्यीय टीम तीन दिवसीय अनुष्ठान करेगी। इस पूरे समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के पुजारियों की प्रमुख भूमिका होगी। अयोध्या की अपनी पहली यात्रा पर पीएम मोदी के शहर में दो घंटे तक रहने की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *