आचार संहिता लागू होने के बाद ज्यादातर शिकायतें निराधार, अफसरों को मिली क्लीनचिट

भोपाल। लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लागू होने के बाद अधिकारियों को लेकर की गई ज्यादातर शिकायतें निराधार पाई गई हैं।
उज्जैन कमिश्नर अजीत कुमार, खंडवा कलेक्टर विशेष गढ़पाले और सीधी कलेक्टर अभिषेक सिंह पर लगे आरोप प्रमाणित नहीं पाए गए।
जांच प्रतिवेदनों में मिली क्लीनचिट के आधार पर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने शिकायतों की फाइल बंद कर दी हैं। प्रदेश भाजपा ने उज्जैन कमिश्नर, खंडवा और सीधी कलेक्टर पर कांग्रेस के पक्ष में काम करने का आरोप लगाया था। शिकायतों की जांच में आरोप प्रमाणित नहीं पा गए। कमिश्नर सहित अन्य माध्यमों से प्राप्त प्र्रतिवेदन में शिकायतों के निराधार पाए जाने पर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने खात्मा लगाकर फाइल बंद कर दी है। इसकी सूचना शिकायतकर्ता को भी भेजी जा रही है। सीधी कलेक्टर अभिषेक सिंह को लेकर भाजपा लगातार शिकायतें कर रही है। सभी का मजमून एक ही है कि कलेक्टर कांग्रेस के प्रत्याशी अजय सिंह का पक्ष ले रहे हैं। वे उनसे सामाजिक तौर पर भी जुड़े हैं और उन्होंने ही चुनाव से पहले पदस्थापना कराई थी। शुरुआती जांच में यह तथ्य प्रमाणित नहीं पाए गए। इन सभी प्रकरणों के जवाब बनाकर शिकायतकर्ताओं को भेजे जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *