कोरोना की फ्री जांच के मैसेज से हो जाएं सावधान, हो सकते हैं ऑनलाइन ठगी का शिकार…

भोपाल.यदि आपके मोबाइल फोन या फिर ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर कोरोना की फ्री जांच के मैसेज आते हैं, तो सावधान हो जाइए. क्योंकि इन मैसेज के लिंक पर क्लिक करने से आप ठगी का शिकार हो सकते हैं. राज्य सायबर पुलिस ने अलर्ट जारी किया है. सायबर पुलिस के पास हर महीने 60 शिकायतें पहुंच रही हैं. इनमें कोरोना की फ्री जांच के अलावा दूसरे लुभावने मैसेज और केवाईसी अपडेट करने के नाम पर लोगों को ठगा जा रहा है.

भोपाल सायबर क्राइम पुलिस एडिशनल एसपी संदेश जैन ने बताया कि ये शातिर ठग ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर अलग-अलग तरह से लोगों को ठग रहे हैं. इस ठगी से बचने के लिए सबसे अच्छा तरीका है कि जागरुक रहें. लुभावने ऑफर से बचें. अपनी पर्सनल जानकारी किसी भी अनजान व्यक्ति को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर मुहैया ना कराएं.

एक महीने में 60 शिकायत...
राजधानी भोपाल स्थित सायबर पुलिस मुख्यालय में एक महीने में करीब 60 ऐसी शिकायतें आई हैं, जिसमें पेटीएम में केवाईसी अपडेट करने के नाम पर एक व्यापारी के खाते से एक लाख से ज्यादा की रकम निकाल ली गयी. इसके अलावा भी लुभावने ऑफर देकर एटीएम कार्ड नंबर, पासवर्ड और दूसरी जानकारी लेकर लोगों को चूना लगाया जा रहा है. साथ ही व्हाट्सएप पर आए कोविड-19 की फ्री में जांच करने के मैसेज के जरिए भी ठगी की गई. जनता को इन शातिर ठगों से बचाने के लिए राज्य सायबर पुलिस ने अलर्ट जारी किया है.

CERT ने बताया फिशिंग अटैक
केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधीन काम करने वाली संस्था कंप्यूटर एमरजेंसी रिस्पॉंस टीम इंडिया यानि सीईआरटी-इन ने हाल ही में सायबर अटैक का अलर्ट जारी किया है. लोगों को आगाह किया गया है कि वो बच के रहें, 21 जून के बाद फिशिंग अटैक और बढ़ने की आशंका है. सायबर ठग फिशिंग के तरीके सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म, वेबसाइट पर पॉपअप भेजकर, ईमेल के जरिए लिंक भेज कर, एसएमएस पर लिंक भेजकर ठगी करते हैं.

ये सावधानी ज़रूरी
ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर रहने वाले व्यक्ति को  जागरुक रहने की जरूरत है. इतना ही नहीं ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर यूजर को ऑटोमेटिक डाउनलोड ऑप्शन को बंद करके रखना चाहिए. अपने अकाउंट या फिर अपनी किसी भी तरीके की पर्सनल जानकारी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर किसी भी अनजान व्यक्ति को ना दें. किसी भी संस्था के नाम पर आने वाली ई-मेल पर फाइल को ना खोलें. किसी भी तरीके के लिंक पर क्लिक ना करें. मैसेज या फिर ईमेल पर आने वाली अनजान जानकारी से बचें. लुभावने ऑफर के नाम पर ठगी का सिलसिला पुराना हो गया है, इसलिए अब सायबर ठग नये-नये तरीकों से लोगों को ठग रहे हैं.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *