‘महाराजा’ पर भारी पड़े ‘राजा’, कांग्रेस उपचुनाव में कैश कराएगी राज्यसभा की जीत

भोपाल. मध्य प्रदेश में राज्यसभा की 3 सीटों में से भले ही बीजेपी ने 2 सीटों पर कब्जा जमा लिया हो, लेकिन संख्या बल में कम होने के बाद भी सबसे ज्यादा 57 वोट कांग्रेस के दिग्विजय सिंह को मिले. पार्टी अब इसे उपचुनाव में कैश कराएगी. राज्यसभा के नतीजों पर कांग्रेस इस बात को लेकर उत्साहित है कि दिग्विजय सिंह के पक्ष में 54 वोट तय होने के बाद भी 57 वोट डाले गए. वो मानती है कि ये दिग्विजय सिंह की चुनावी रणनीति और बीजेपी की अंतर्कलह का नतीजा है. कांग्रेस का कहना है ग्वालियर चंबल इलाके में महाराजा के खिलाफ राजा पार्टी का बड़ा चेहरा होंगे और बीजेपी की अंतर्कलह उपचुनाव में कांग्रेस की जीत का प्रमुख कारण साबित होगी.

बीजेपी की स्थिति
राज्यसभा चुनाव नतीजों पर नज़र डालें तो बीजेपी को कुल 111 वोट मिले. उसे कुल 2 वोट का नुकसान हुआ.एक क्रॉस वोटिंग से और दूसरा रिजेक्ट होने के कारण बेकार गया. हालांकि बीजेपी का साथ तीन निर्दलीय, एक सपा और दो बसपा विधायकों ने दिया जिन्होंने बीजेपी के पक्ष में वोट किया.

कांग्रेस का ग्राफ
कांग्रेस को राज्यसभा चुनाव में 92 विधायकों के पलट 93 वोट हासिल हुए.हालांकि उसका भी एक वोट रिजेक्ट हो गया और एक निर्दलीय विधायक केदार डाबर ने कांग्रेस के पक्ष में वोट दिया. बीजेपी विधायक गोपीलाल जाटव के क्रॉस वोटिंग से कांग्रेस को एक वोट ज्यादा मिल गया. इस तरह दिग्विजय सिंह को कुल 57 वोट मिले.जबकि विधायक दल की बैठक में तय हुआ था कि 54 विधायक दिग्विजय सिंह के पक्ष में वोट करेंगे.

जो जीता वही सिकंदर
बीजेपी का कहना है राज्यसभा चुनाव में बीजेपी के खाते में 2 सीट गई हैं.उपचुनाव में वो इस जीत को कांग्रेस के मुकाबले आगे रखेगी. राज्यसभा चुनाव के बाद अब 24 विधानसभा सीटों के उपचुनाव पर बीजेपी कांग्रेस आमने-सामने होंगे. ऐसे में सबसे अहम ग्वालियर चंबल का इलाका होगा जहां 16 सीटों पर उपचुनाव हैं. यहां का बड़ा चेहरा ज्योतिरादित्य सिंधिया प्रदेश में बीजेपी के खाते से राज्यसभा गए हैं तो वहीं कांग्रेस की तरफ से सीनियर लीडर दिग्विजय सिंह राज्यसभा पहुंचे हैं. अब यह तय माना जा रहा है कि प्रदेश के बदले सियासी माहौल में ग्वालियर चंबल इलाके में राजा और महाराजा के बीच जंग होगी. दोनों के लिए ये नाक की लड़ाई है.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *