अब राजनीति में दांव-पेंच आजमा रहे श्री बजरंग अखाड़े के पहलवान

एक का कार्यकाल अतुलनीय उपलब्धि भरा रहा तो दूसरे के सामने है चुनौती
अखाड़े से जुड़े दोनों ही पार्टियों के अध्यक्षों की जबरदस्त है लोकप्रियता
बैतूल।
नगर के कोठीबाजार क्षेत्र की प्रसिद्ध श्री बजरंग व्यायाम शाला(अखाड़े) से वैसे तो बैतूल को सैकड़ों युवा पहलवानों की सौगात मिली है लेकिन वर्तमान में इसी व्यायाम शाला के दो पहलवान प्रमुख राजनैतिक दलों के मुखिया बनकर राजनीति में दांव-पेंच आजमा रहे हैं। यहां बात हो रही है श्री बजरंग अखाड़े से सक्रिय रूप से जुड़े रहे जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुनील गुड्डू शर्मा और हाल ही में भाजपा के जिलाध्यक्ष बने आदित्य बबला शुक्ला की।
स्वास्थ्य, समाज, संगठन की पाठशाला हैं अखाड़े
यदि हम व्यायाम शालाओं (अखाड़ों) की बात करें तो यह व्यायाम शाला स्वास्थ्य, समाज और संगठन क्षमता सिखाने की पाठशाला होती हैं, यहां पर इसका ककहरा सिखाया जाता है। व्यायाम शाला से जहां शरीर स्वस्थ्य रहता है वहीं शारीरिक सौष्ठव हमेशा मजबूत रहता है। व्यायाम शाला का पहलवान में संगठन क्षमता भी भरपूर होती है, क्योंकि व्यायाम शाला में सबसे अधिक किसी को मान्य किया जाता है तो वह अनुशासन होता है। इसी अनुशासन के दम पर पहलवान अपनी संगठन क्षमता से समाज का कल्याण के लिए कार्य करता है।
एक व्यायाम शाला के दो पहलवान ठोक रहे ताल
श्री बजरंग व्यायाम शाला कोठीबाजार के दो पहलवान रहे चुके वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पार्टी में जिलाध्यक्षों की कमान संभालते हुए अपनी-अपनी पार्टी को जहां और अधिक मजबूत कर रहे हैं, वहीं प्रतिद्वंदी पार्टी से आगे निकलने के लिए ताल भी ठोंक रहे हैं। दोनों ही पार्टियों के जिलाध्यक्ष सुनील शर्मा और आदित्य शुक्ला द्वारा जमकर मेहनत की जा रही है जिससे की आगामी चुनाव में दोनों ही पार्टियों को इसका लाभ मिल सकें।
गजब की है दोनों में नेतृत्व क्षमता
अब इसे श्री बजरंग व्यायाम शाला से मिली संगठन क्षमता की शिक्षा कहें या फिर व्यक्तित्व विकास की दोनों ही पार्टियों के जिलाध्यक्षों आदित्य बबला शुक्ला और सुनील गुड्डू शर्मा में गजब की नेतृत्व क्षमता विद्मान है। यदि हम कांग्रेस जिलाध्यक्ष सुनील शर्मा की बात करें तो उन्होंने जिले में कांग्रेस को फर्श से अर्श तक पहुंचा दिया है। उनके पहले जिले में सिर्फ 5-0 का आंकड़ा था जो कि उनके कार्यकाल में हुए चुनाव के बाद 4-1 का हुआ है जो कि उनकी संगठन क्षमता का अपने आप लोहा मनवाता है। इसी तरह से यदि भाजपा जिलाध्यक्ष आदित्य बबला शुक्ला की नेतृत्व क्षमता की बात करें तो यह शहर का बच्चा-बच्चा और हर युवा वर्ग बेहतर तरह से जानता है कि बबला शुक्ला में जो संगठन को लेकर चलने की क्षमता है वह शायद ही उनके हमउम्र के किसी में हो। युवाओं के आईकॉन के रूप में जाने जाने वाले बबला शुक्ला के समक्ष अब खोई हुई पार्टी की साख को वापस लाने की चुनौती है।
सामाजिक कार्यों में रहते हैं अव्वल
श्री बजंरग व्यायाम शाला के यह दोनों पहलवान सुनील और आदित्य की यदि सामाजिक गतिविधियों की बात करें तो इसमें भी यह दोनों पहलवान अव्वल नंबर पर आते हैं। बात चाहे शिवरात्रि पर भण्डारे की हो या फिर अन्य किसी जरूरतमंद की मदद की हो सुनील शर्मा और उनकी टीम हमेशा ही आगे रहती है। इसी तरह से यदि बबला शुक्ला की भी बात करें तो दशहरे पर होने वाले आयोजन, निकलने वाली अखाड़े की झांकी या फिर जेएच कालेज में तमाम प्रशासनिक चेतावनियों के बावजूद बिठाई जाने वाली 22 फुट की गणेश प्रतिमा का मामला हो, बबला शुक्ला और उनकी टीम के बिना अधूरी ही रहती है। जरूरमंद की मदद के लिए तो सदा बबला शुक्ला के दरवाजे खुले रहते हैं।
अखाड़ों ने दी कई शख्सियतें
श्री बजरंग व्यायाम शाला ही नहीं बल्कि जिले की अन्य व्यायाम शालाओं ने भी ऐसी कई दिग्गज हस्तियाँ दी है जिनका शहर ही नहीं बल्कि जिले में भी दबदबा कायम है। इसके पीछे मुख्य वजह यह है कि व्यायाम शालाओं में स्वास्थ्य, संगठन और समाज के लिए ही करने का सिखाया जाता है। जब तक शरीर स्वस्थ्य नहीं होगा संगठन क्षमता नहीं आएगी और जब तक संगठन क्षमता नहीं आएगी तब तक समाज का भला नहीं हो सकता है। यही वजह कि व्यायाम शालाओं में यह तीनों हुनर बखूबी सिखाए जाते हैं और व्यायाम शाला से निकलने वाले पहलवान हनुमान जी को आदर्श मानकर समाज को नई दिशा देते आ रहे हैं।
युवाओं की टीम उज्जवल करेगी बैतूल का भविष्य
श्री बजरंग अखाड़े के इन दोनों सपूतों के प्रमुख राजनैतिक दल के अध्यक्ष पद पर काबिज होने से यह उम्मीद की जा सकती है कि आने वाले दिनों में बैतूल को कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों में वास्तविक संगठन क्षमता और राजनैतिक समझ रखने वाले युवाओं की टीम मिलेगी जो निश्चय ही आने वाले समय में बैतूल का राजनैतिक भविष्य मजबूत और उज्जवल कर सकेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *