18 जून को मंगल ने बदली राशि और बुध हो गया है वक्री, अब 25 जून तक 9 में से 6 ग्रह रहेंगे वक्री, इसी योग में सूर्य ग्रहण भी होगा

शनि मकर में गुरु के साथ है वक्री, 25 जून को शुक्र हो जाएगा मार्गी

गुरुवार, 18 जून को तीन ग्रहों की स्थितियां बदल गई हैं। चंद्र ने वृष राशि में और मंगल ने मीन राशि में प्रवेश किया है। बुध मिथुन राशि में वक्री हो गया है। इसी के साथ अब 9 में से 6 ग्रह वक्री हो गए हैं। रविवार, 21 जून को सूर्य ग्रहण ग्रहों की इसी स्थिति में होगा। उस समय चंद्र सूर्य और राहु के साथ मिथुन राशि में रहेगा।

उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार 6 वक्री ग्रहों की स्थिति 25 जून तक रहेगी। 25 को शुक्र ग्रह वृष राशि में मार्गी हो जाएगा। फिर 12 जुलाई तक 5 ग्रह वक्री रहेंगे। इसके बाद बुध मिथुन में मार्गी होगा।

सूर्य, चंद्र और मंगल रहेंगे मार्गी

25 जून तक बुध, गुरु, शुक्र, शनि और राहु-केतु वक्री रहेंगे। इनके अतिरित सूर्य, चंद्र और मंगल मार्गी रहेंगे। राहु-केतु हमेशा वक्री रहते हैं और सूर्य-चंद्र हमेशा मार्गी रहते हैं। ग्रहों की ये दशा सभी 12 राशियों के लिए भी खास रहेगी। ज्योतिष में ग्रहों की दो स्थितियां बताई गई हैं। एक मार्गी और दूसरी वक्री। सरल शब्दों में मार्गी में ग्रह सीधा चलता है यानी आगे बढ़ता है। जबकि वक्री स्थिति में ग्रह टेढ़ा या उल्टा चलता है यानी पीछे की ओर चलने लगता है। 

सभी 12 राशियों पर इन योगों का असर

इस समय सभी 12 राशियों के विशेष सावधानी रखनी होगी। मानसिक तनाव बढ़ सकता है। धैर्य से काम लेना होगा। ये ग्रह योग मेष, कर्क, तुला, मकर, कुंभ राशि के लिए शुभ रहेगा। वृष, कन्या, वृश्चिक राशि के लिए अशुभ स्थिति बनेगी। मिथुन, सिंह, धनु और मीन राशि के लोगों के लिए समय सामान्य रहेगा।

देश-दुनिया पर वक्री ग्रहों का असर

ज्योतिष में ग्रह मार्गी और वक्री होते रहते हैं, लेकिन 5 या 6 बड़े ग्रहों का एक साथ वक्री होना, दुर्लभ योग है। जुलाई के प्रारंभ तक इन ग्रहों का वक्री योग चलेगा। इस ग्रह स्थिति में सूर्य ग्रहण होने से देश-दुनिया में प्राकृतिक आपदा आने के योग बन रहे हैं। कहीं-कहीं भूकंप के तेज झटके भी आ सकते हैं, ज्यादा बारिश हो सकती है। समुद्री तूफान भी आ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *