दिग्विजय उसी थाने पहुंचे, जहां उनके खिलाफ केस दर्ज हुआ है; कहा- मेरे खिलाफ एफआईआर की है, शिवराज पर भी करो

  • राहुल गांधी के वीडियो को आधार बनाकर समर्थकों के साथ क्राइम ब्रांच पहुंचे पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह
  • सोमवार को भाजपा ने शिवराज के एडिटेड वीडियो पर दिग्विजय समेत 11 पर एफआईआर कराई थी
  • एसपी साउथ बोले- दोनों मामलों की जांच होगी, कानूनी सलाह के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी

भोपाल. प्रदेश में शराब बिक्री मामले में मुख्यमंत्री का फेक वीडियो ट्वीटर पर शेयर करने में फंसे पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह बुधवार सुबह उसी क्राइम ब्रांच थाने में समर्थकों के साथ पहुंचे, जहां उनके खिलाफ दो दिन पहले एफआईआर हुई थी। दिग्विजय ने राहुल गांधी के एडिटेड वीडियो को शेयर करने को आधार बनाकर शिवराज सिंह के खिलाफ शिकायत की। दिग्विजय का कहना था कि अगर मेरे खिलाफ एफआईआर हुई है, तो शिवराज के खिलाफ भी मामला दर्ज होना चाहिए। अगर पुलिस केस दर्ज नहीं करती है, तो मैं इसके लिए कोर्ट जाऊंगा। जब तक मेरी शिकायत पर कार्रवाई नहीं की जाएगी, तब तक मेरा संघर्ष जारी रहेगा।

दिग्विजय के क्राइम ब्रांच पहुंचने से पहले उनके बेटे जयवर्धन सिंह पहुंच गए। मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होंने मास्क नहीं पहना था। बाद में मास्क लगाया। 

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह बुधवार सुबह करीब पौने 11 बजे समर्थकों के साथ एमपी नगर स्थित क्राइम ब्रांच थाने पहुंचे। उनके पहुंचने से पहले बेटे जयवधर्न सिंह, पीसी शर्मा, कैलाश मिश्र समेत अन्य नेता भी आ गए थे। मीडिया से बात करने के बाद दिग्विजय सीधे क्राइम ब्रांच के ऑफिस के अंदर चले गए। पहले से इंतजार कर रहे एसपी साउथ और दिग्विजय के बीच महज दो मिनट की मीटिंग हुई। बाहर आकर दिग्विजय ने कहा कि हमने एसपी को मामले की जांच पूरी होने तक गिरफ्तारी रोके जाने की मांग की है। इसके साथ ही शिवराज सिंह समेत दो लोगों पर राहुल गांधी के वीडियो को एडिटेड कर सोशल मीडिया पर चलाने के मामले में एफआईआर दर्ज करने के लिए आवेदन दिया है।  इस मामले में अमित शाह को भी पूछताछ के लिए बुलाना चाहिए। 

क्राइम ब्रांच के ऑफिस में दिग्विजय के आने का इंतजार करते उनके समर्थक। पुलिस सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने का अनुरोध करती रही, लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

पुलिस सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने की अपील करती रही
दिग्विजय के पहुंचने के पहले ही बड़ी संख्या में उनके समर्थक थाने पहुंच गए थे। मीडिया और समर्थकों के कारण ऑफिस में काफी भीड़ हो गई थी। कई लोग मास्क तो लगाए थे, लेकिन सोशल डिस्टेसिंग की धज्जियां उड़ गईं। इसे देखते हुए क्राइम ब्रांच की मोबाइल जीप से पुलिस सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने की अपील करती रही, लेकिन इसका पालन नहीं हुआ। 

शिकायत का आधार वीडियो को बनाया
दिग्विजय 16 मई 2019 के उस वीडियो का हवाला दे रहे हैं, जिसमें शिवराज ने राहुल गांधी का एक एडिटेड वीडियो शेयर किया था। शिवराज ने कहा था- ‘अरे यह क्या? राहुलजी भाषण में ही सही, समय पर किसान कर्ज माफी ना करने पर आखिरकार आपने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बदल ही दिए। क्या बात है, आप ऐसे महान व्यक्ति हैं, जो बड़े काम चुटकी में कर सकते हैं।’

आरोप- शिवराज ने वीडियो से छेड़छाड़ कर शेयर किया
शिवराज ने जो वीडियो शेयर किया था, वह राहुल गांधी के भाषण का छोटा-सा हिस्सा था। सोशल मीडिया पर इसे एडिट करके इस तरह से पेश किया गया ताकि सुनने में ऐसा लगे कि राहुल गांधी मप्र के मुख्यमंत्री का नाम भूल गए हैं। दरअसल, राहुल गांधी ने कमलनाथ का नाम लिया था, लेकिन उसमें छेड़छाड़ कर इस तरह एडिटिंग की गई थी कि वो भूपेश बघेल को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बोलते सुनाई दे रहे थे। 

एसपी ने कहा- दोनों मामलों में कानूनी सलाह लेंगे
दैनिक भास्कर से बातचीत में एसपी साउथ साई कृष्ण ने कहा कि दिग्विजय ने सीएम शिवराज सिंह के खिलाफ शिकायत की है। उनकी शिकायत पर कानूनी सलाह के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ दिग्विजय के खिलाफ मामले के कानूनी पहलुओं को देखा जा रहा है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *