मध्य प्रदेश उपचुनाव में मंदिर और गौशाला की एंट्री, बीजेपी और कांग्रेस ने बनाया यह प्लान

भोपाल. मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनाव से पहले मुद्दों की तलाश में बीजेपी और कांग्रेस अब धर्म और गौशाला के जरिए वोटरों को साधने की कोशिश में जुट गई हैं. 15 जिलों के 24 विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में मालवा और निमाड के 5 विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है. यहां के लिए कांग्रेस ने खास प्लान तैयार किया है. मालवा और निमाड़ में उज्जैन व ओमकारेश्वर मंदिर के विकास को कांग्रेस पार्टी मुद्दा बनाने की तैयारी में है. दरअसल, तत्कालीन कमलनाथ सरकार ने उज्जैन से ओम्कारेश्वर के बीच ओम सर्किट बनाने का फैसला किया था, जिस पर 156 करोड़ रुपए खर्च करने की तैयारी थी. इसके लिए पूर्व सरकार ने योजना को मंजूरी दी थी. उज्जैन के महाकालेश्वर और ओमकारेश्वर के साथ महेश्वर को भी योजना में शामिल किया गया था.

अब कांग्रेस का आरोप है कि मौजूदा सरकार मंदिरों के विकास को रोक रही है. और यदि पूर्व सरकार के फैसलों पर अमल नहीं होता है तो इसका विरोध होगा. वहीं, कांग्रेस पार्टी ने गोशाला को भी 24 विधानसभा सीटों पर बड़ा मुद्दा बनाने की तैयारी की है. पूर्व मंत्री लाखन सिंह यादव का कहना है की तत्कालीन कमलनाथ सरकार ने प्रदेश में 3000 गौशाला बनाने की योजना को मंजूरी दी थी. 1000 गौशाला का निर्माण पूरा होने की ओर है. अब गौशाला के मुद्दे पर मौजूदा सरकार के रवैए का विरोध होगा. कांग्रेस का आरोप है कि गौशाला निर्माण में मौजूदा सरकार अड़ंगा लगाने का काम कर रही है.

इसका क्रेडिट लेने की तैयारी कर ली है
तो वहीं बीजेपी ने भी अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास की तैयारी को देश की जीत करार देकर इसका क्रेडिट लेने की तैयारी कर ली है. पूर्व मंत्री और बीजेपी विधायक विश्वास सारंग के मुताबिक, अयोध्या में राम मंदिर बनना देश की बड़ी आबादी की आस्था को पूरा करने जैसा है. पीएम मोदी के नेतृत्व में ही राम मंदिर बनाने का रास्ता खुला है और बीजेपी का लक्ष्य पूरा हुआ है. दरअसल, खबर इस बात को लेकर भी है कि 2 जुलाई को देव शयनी एकादशी पर राम मंदिर का शिलान्यास होगा, जिसमें पीएम मोदी शामिल होंगे. इस शिलान्यास कार्यक्रम को बीजेपी उपचुनाव में कैश कराने की कोशिश में है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *