डीजीपी विवेक जौहरी की उमा भारती ने की तारीफ, बाकी अफसरों को चापलूस, लापरवाह और आलसी बताया

भोपाल. पूर्व सीएम कमलनाथ (kamalnath) के फैसले पर बीजेपी नेता (bjp leader) उमा भारती (uma bharti) की भी मोहर लग गयी है. मसला प्रदेश के डीजीपी विवेक जौहरी का है. कमलनाथ सरकार में डीजीपी (DGP) बनाए गए विवेक जौहरी की उमा भारती (UMA BHARTI) ने खुलकर तारीफ की है. उमा ने कहा कि पुलिस अफसर ऐसा ही होना चाहिए. उन्होंने बाकी अफसरों को लापरवाह और आलसी बताते हुए उन्हें चापलूसी से बचने की सलाह दे डाली. उमा ने सीएम शिवराज से कहा कि वो प्रदेश को मॉडल स्टेट बनाकर दिखाएं.

प्रदेश में पुलिस विभाग में राजनीतिक दखल का मामला हो या फिर ड्यूटी में 29 IPS अफसरों की लापरवाही. दोनों ही मामलों को उजागर करने वाले प्रदेश पुलिस के मुखिया डीजीपी विवेक जौहरी की पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने जमकर तारीफ की है. उन्होंने पुलिस के बाकी वरिष्ठ अधिकारियों को लापरवाह और आलसी बताते हुए चापलूसी और राजनीति से बचने की सलाह भी दी है. उमा भारती ने इन दोनों मामले में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा और डीजीपी से निर्णय लेने की बात कही है.

डीजीपी की तारीफ, बाकियों को सलाह…
उमा भारती ने ट्वीट करते हुए पुलिस विभाग में राजनीतिक दखल का मामला उठाया है. साथ ही उन्होंने पुलिस मुख्यालय में ड्यूटी के दौरान 29 आईपीएस अफसरों की लापरवाही उजागर करने पर डीजीपी विवेक जौहरी की जमकर तारीफ की. ट्वीट में  उमा भारती ने लिखा कि मध्य प्रदेश के डीजीपी  विवेक जौहरी का वह पत्र जो सार्वजनिक हुआ है उसमें जो तथ्य हैं वह एक सच्चाई है. विवेक जौहरी जैसा ईमानदार, कर्तव्यनिष्ठ, साहसी अधिकारी ही इस मुद्दे को उठाने की पात्रता रखता है.

लापरवाह-चापलूस अफसर
उमा भारती ने आगे लिखा कि मेरे पास 1990 से सरकारी सुरक्षा व्यवस्था रही है. इसलिए मैं स्वयं इसकी साक्षी हूं कि सामान्य श्रेणी के पुलिसकर्मी और अधिकारी अपने कर्तव्य के प्रति जितने जागरूक, परिश्रमी होते हैं. उनकी तुलना में उच्च श्रेणी के पुलिस अधिकारी आलसी, लापरवाह होने लगते हैं. इसमें कुछ अपवाद भी होते हैं, जो उच्च पदों पर रहकर भी उतने ही सतर्क परिश्रमी रहते हैं. जितने वो अपने सर्विस काल के आरंभ में थे. विवेक जौहरी स्वयं इसके उदाहरण हैं.

उमा भारती ने दी सलाह…
उमा भारती ने अपने ट्वीट में यह भी लिखा कि अब इस मसले पर हमारे राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा और स्वयं विवेक जौहरी  निर्णय लें.  वरिष्ठ पुलिस अधिकारी चापलूसी, राजनीतिक दलों के परिवर्तन के साथ पक्षपात और प्रमाद से बचें. इससे राज्य की कानून-व्यवस्था दुरुस्त रहेगी.

उमा की अपील
उमा भारती ने लिखा मैं  विवेक जौहरी जी का पूर्ण समर्थन करते हुए शिवराज जी, नरोत्तम जी और  विवेक जौहरी को आव्हान करती हूं कि मध्य प्रदेश को कानून-व्यवस्था के मसले में मॉडल स्टेट बनाकर दिखाएं. उन्होंने अपने ट्वीट को सीएम शिवराज सिंह चौहान, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, केंद्रीय बीजेपी और मध्य प्रदेश बीजेपी को टेग किया है.

इन दो मामलों को उठाया
उमा भारती ने DGP की उस मुद्दे पर तारीफ की, जिसमें DGP ने सभी पुलिस इकाइयों को पत्र लिखकर ट्रांसफर, पोस्टिंग, विभागीय जांच में राजनीति दखल कराने वाले पुलिस अधिकारी कर्मचारियों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे. इसी मुद्दे को उन्होंने ट्वीट में उठाया भी. इसके अलावा पुलिस मुख्यालय में ड्यूटी के दौरान लापरवाही बरतने वाले स्पेशल डीजी एडीजी आईजी रैंक के 29 आईपीएस अधिकारियों को डीजीपी ने पत्र लिखकर समझाईश दी थी. इन दोनों मामलों पर उमा भारती ने ध्यान देकर कई सवाल उठाए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *