आचार संहिता में भी कर्जमाफी, BJP ने मुख्‍य निर्वाचन पदाधिकारी से की शिकायत

भोपाल। आचार संहिता लागू होने के बावजूद किसानों को कर्जमाफी का फायदा देने की शिकायत भाजपा ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव से की है। पार्टी ने आरोप लगाया है कि मंदसौर में अमलावद संस्था ने किसानों के खाते में कर्जमाफी की राशि समायोजित की।
इतना ही नहीं, किसान को भी इसकी रसीद भी दी गई। यह आचार संहिता का उल्लंघन है और सहकारिता विभाग के प्रमुख सचिव अजीत केसरी और आयुक्त केदार शर्मा के इशारे पर किया जा रहा है। वहीं, दमुआ नगर पालिका के सीईओ पर भी कांग्रेस के पक्ष में काम करने का आरोप लगाया गया।
प्रदेश भाजपा के पदाधिकारी शांतिलाल लोढ़ा ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से शिकायत की है कि सहकारिता विभाग और अपेक्स बैंक के अफसर निर्वाचन नियमों को भी ताक पर रख रहे हैं। निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से जानकारी मांगने के बाद भी सहकारिता विभाग और आयुक्त सहकारिता नहीं दे रहे हैं।
आचार संहिता लागू होने के बाद हितग्रहियों को लाभांवित नहीं किया जा सकता है, लेकिन कर्जमाफी की राशि किसानों के खातों में जमा की जा रही है और बाकायदा इसकी रसीद भी दी जा रही है। मंदसौर कलेक्टर, सहकारिता के प्रमुख सचिव और आयुक्त भी आचार संहिता के उल्लंघन में शामिल हैं।
उधर, दमुआ नगर पालिका के मुख्य कार्यपालन अधिकारी कांग्रेस की चुनावी सभा के लिए नगर पालिका के टेंट और वाहन का उपयोग करवा रहे हैं। भाजपा ने शिकायतों पर कार्रवाई करने की मांग मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *