ये उदार और दिलदार लोगों का नगर है, बैतूल के सेवाभावी नागरिकों की जय हो

बैतूल। इस समय हजारों-लाखों यात्री रेलवे के द्वारा उपलब्ध व्यवस्था से अपने गन्तव्य की ओर जा रहे हैं। आज दोपहर रेलवे स्टेशन से फोन आया कि 1500 यात्रियों को लेकर एक ट्रेन दक्षिण से बिहार की ओर जा रही है। आप भोजन की व्यवस्था में सहयोग कर सकते हैं क्या?
पूरा भारत भारती परिवार सेवा में जुट गया और तीन घण्टे में 500 से अधिक भोजन पैकेट बनाकर स्टेशन पहुँच गए। शेष एक हजार से अधिक भोजन पैकेट की व्यवस्था अतीत पवार और बैतूल की टीम भाजपा ने की
ट्रेन थोड़ी देरी से आई। पचास से अधिक सेवा कार्यकर्ता स्टेशन पर व्यवस्था में जुटे। रेल के डिब्बे के हर गेट पर चालीस भोजन के पैकेट और पानी लेकर कार्यकर्ता खड़े हो गए। ट्रेन आते ही केवल पाँच मिनिट में भोजन वितरण हो गया। सभी यात्री भी सन्तुष्ट लगे।
काफी यात्रियों से बात हुई। वे तमिलनाडु से आ रहे हैं बिहार के अलग-अलग जिलों से हैं। एक यात्री से पूछा जो मधुबनी के थे “वापस जायेंगे तमिलनाडु?” तीन चार यात्री एक साथ बोल पड़े “”न””। क्या करेंगे वहाँ? उन्होंने कहा वह अच्छा लगा सुनकर कि “खेती करेंगे”।
आमला विधायक डॉ. योगेश पंडाग्रे, आदित्य शुक्ला बबला भैया, राहुल देव ठाकरे प्राचार्य भारत भारती की टीम ने सेवा कार्य को सुगम बना दिया।
बैतूल की सेवा भावना देखकर मन गदगद हो गया। स्टेशन प्रबंधक से बात हुई कि इस सप्ताह बहुत ट्रेनें बैतूल से गुजरेगी। सभी कार्यकर्ताओं ने कहा “आप जितने पैकेट भोजन का कहेंगे, बैतूल के लोग व्यवस्था करेंगे”। मैंने कहा “बैतूल के लोगों को एक दिन में सवा लाख लोगों को भोजन कराने का अनुभव है (हिन्दू सम्मलेन 7 फरवरी 2017)। ये उदार और दिलदार लोगों का नगर है।
बैतूल नगर के सेवाभावी नागरिकों की जय हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *