पीसीसी चीफ कमलनाथ ने बीजेपी को घेरने बनाई मीडिया टीम

भोपाल. मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव को लेकर बीजेपी और कांग्रेस की रणनीति में धार देने का सिलसिला जारी है. इसी कड़ी में कांग्रेस ने बीजेपी को घेरने के लिए मीडिया टीम तैयार की है. यह मीडिया टीम विधानसभा उपचुनाव वाली सीटों पर बीजेपी को घेरने और कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने का काम करेगी. पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने टीम के सदस्यों को विधानसभा क्षेत्र के हिसाब से जिम्मेदारी बांटी है. यह टीम अपनी नियुक्ति के पहले दिन से ही काम पर भी डट गई है. टीम में जिस-जिस को जिम्मेदारी मिली है उसके मुताबिक भूपेन्द्र गुप्ता को संची और सुरखी, सैय्यद जाफर को अनूपपुर, अभय दुबे को आगर और हाटपीपल्या, नरेंन्द्र सलूजा को सांवेर, सुआसरा और बदनावर वहीं सबसे महत्त्वपूर्ण ग्वालियर चंबल संभाग की सीटों की जिम्मेदारी केके मिश्रा को दी गयी है. ग्वालियर चंबल संभाग में दुर्गेश शर्मा, राम पांडे और रवि सक्सेना भी टीम में शामिल होंगे.
ग्वालियर टीम से ग्वालियर वाले बाहर
विधानसभा उप चुनाव की रणनीति के हिसाब से कांग्रेस ने मीडिया टीम तैयार जरूर की है. लेकिन इसको लेकर कुछ सवाल भी खड़े हो रहे हैं. सवाल यह ग्वालियर चंबल के जिस सबसे महत्वपूर्ण इलाके में सबसे ज्यादा सीटों पर चुनाव होने हैं वहां मीडिया टीम में किसी स्थानीय नेता को जगह नहीं दी गई है. भोपाल में सक्रिय रहने वाले प्रवक्ता या मीडिया टीम के सदस्य आखिर ग्वालियर के लिए कितनी कारगर रणनीति बना पाएंगे?
24 में से 16 सीट ग्वालियर-चंबल की
मध्य प्रदेश में आने वाले दिनों में 24 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना है इनमें से सबसे ज्यादा सीटें ग्वालियर चंबल संभाग की हैं. यह ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाला इलाका है और कांग्रेस से बीजेपी में शामिल होने वाले सबसे ज्यादा विधायक इसी क्षेत्र से थे. लिहाजा ग्वालियर चंबल चुनाव रणनीति के लिहाज से सबसे अहम है. कांग्रेस ने हाल ही में दिग्विजय सिंह के करीबी माने जाने वाले अशोक सिंह को ग्वालियर ग्रामीण का जिलाध्यक्ष नियुक्त किया है जबकि सिंधिया समर्थक कांग्रेस नेताओं को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *