शिवराज, वीडी ‌व सुहास के बीच मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चर्चा

  • मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर भाजपा में सियासी सरगर्मी बढ़ गई है। भोपाल से दिल्ली तक बातचीत का दौर शुरू हो गया है।
  • भोपाल में सीएम शिवराज सिंह चौहान, प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा व संगठन महामंत्री सुहास भगत के बीच सोमवार को लंबी चर्चा हुई।

भोपाल. मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर भाजपा में सियासी सरगर्मी बढ़ गई है। भोपाल से दिल्ली तक बातचीत का दौर शुरू हो गया है। भोपाल में सीएम शिवराज सिंह चौहान, प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा व संगठन महामंत्री सुहास भगत के बीच सोमवार को लंबी चर्चा हुई। इससे पहले गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा भी पार्टी दफ्तर पहुंचे और शर्मा व भगत से बात की। पार्टी सूत्रों का कहना है कि इन नेताओं के बीच मंत्रिमंडल विस्तार के साथ उपचुनाव पर बात हुई। दिल्ली से ऐसे संकेत मिले हैं कि भोपाल, इंदौर व उज्जैन में कोरोना की स्थिति सामान्य होने के बाद मंत्रिमंडल विस्तार की कवायद हो, लेकिन प्रदेश के नेता चाहते हैं कि यह जल्द हो। ऐसे में कांग्रेस से भाजपा में आने वाले व भाजपा के मंत्री पद के उम्मीदवार नेता एक्टिव हो गए हैं। कांग्रेस की पूर्व सरकार में मंत्री रहे निर्दलीय विधायक प्रदीप जायसवाल, संजय पाठक, रामपाल सिंह, विश्वास सारंग, जुगल किशोर बागड़ी, रामेश्वर शर्मा, एंदल सिंह कंसाना, प्रभुराम चौधरी आदि शिवराज सिंह, शर्मा, भगत व नरोत्तम मिश्रा से अलग-अलग मिले। बताया जा रहा है कि जुगल किशोर ने विंध्य को अधिक प्रतिनिधित्व देने की बात की है। 
पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि मंत्रिमंडल गठन में जिस तरह जातिगत संतुलन बनाया गया है, उसे आगे बरकरार रखने के साथ क्षेत्रीय संतुलन भी बनाना होगा। इसमें सिंधिया गुट के बचे हुए 4 मंत्रियों के साथ कांग्रेस से भाजपा में आए शेष लोगों को भी जगह देनी है। इंदौर, सागर, रीवा के साथ मंदसौर-नीमच व रतलाम में दिक्कतें हैं। प्रदेश की 24 सीटों पर उपचुनाव और प्रदेश कार्यसमिति के गठन पर शिवराज, शर्मा व भगत के बीच चर्चा हुई। उपचुनाव में पार्टी की रणनीति और वहां किस को क्या जिम्मेदारी देना है, इस बातचीत हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *