जूस पीकर इम्यूनिटी बढ़ाएगी पुलिस, टॉफी नहीं होने देगी डिहाइड्रेट, मिल्क शेक से मिलेगी एक टाइम के खाने की एनर्जी

भोपाल पुलिस के लिए एसपी नॉर्थ ने मंगवाया 20 हजार लीटर जूस, ड्यूटी में लगे पुलिस स्टाफ को खाने के साथ मिलेगा जूस

भोपाल. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए भोपाल में तैनात पुलिसकर्मियों को अब खाने के साथ फ्रूट जूस भी दिया जाएगा। टॉफी उन्हें डिहाइड्रेट होने से बचाएगी और मिल्क शेक से एक टाइम के खाने की ताकत भी मिलेगी। पुलिस स्टाफ के लिए करीब 20 हजार लीटर जूस मंगवाया जा चुका है, जबकि 75 हजार पैकेट मिल्क शेक और 74 हजार पैकेट टॉफी जल्द ही भोपाल पुलिस को डिलीवर हो जाएगी। तेज गर्मी होने के बाद भी पुलिसकर्मियों को स्वस्थ्य रखने और उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए ये पहल की गई है। 

कोरोना वायरस के संक्रमण से अब तक 33 पुलिस और उनके 22 परिजन संक्रमित हो चुके हैं। डॉक्टरों की राय है कि ड्यूटी करने के बाद भी यदि इस संक्रमण से बचना है तो पुलिस स्टाफ की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ानी होगी। इसके लिए एसपी नॉर्थ शैलेंद्र सिंह चौहान ने आईटीसी कंपनी के अफसरों से बात की। कंपनी ने कार्पोरेट सोशियल रिस्पॉन्सबिलिटी (सीएसआर) के तहत पुलिस को करीब 20 लाख रुपए कीमत के फ्रूट जूस डोनेट किए हैं। ऐसा कंपनी दूसरे प्रदेशों में कर चुकी है। चार ट्रक भरकर अलग-अलग फलों के शक्तिवर्धक जूस गुरुवार को डिलीवर कर दिए गए। ये जूस ड्यूटी में तैनात पुलिसकर्मियों को खाने के साथ रोजाना तीन बार दिया जा रहा है।


मिल्क शेक से एक टाइम के खाने की एनर्जी
 एसपी चौहान ने बताया कि कंपनी जल्द ही करीब 74 हजार पैकेट मिल्क शेक और इतनी ही मात्रा में टॉफी के पैकेट देगी। एक वयस्क को दिनभर में करीब 2500 कैलरी की जरूरत होती है। एक मिल्क शेक से पुलिस स्टाफ को एक टाइम के खाने जितनी कैलरी मिलेगी। ये एनर्जी उनके काम करने की क्षमता का भी विकास करेगी। पुलिस स्टाफ के लिए टॉफी भी मंगवाई जा रही है, जो उनके शुगर लेवल को मेंटेन रखेगी। यदि खाना मिलने में थोड़ी देर भी होगी तो टॉफी खाकर पुलिसकर्मी अपने शुगर लेवल को मेंटेन कर सकेंगे। 

ड्यूटी के दौरान भोजन करते पुलिसकर्मी।

अब पूड़ी नहीं, राजमा-छोले के साथ रोटी
अब तक पुलिस स्टाफ को लॉ एंड ऑर्डर ड्यूटी के दौरान पूड़ी सब्जी खिलाने का चलन था। कोरोना वायरस से लड़ने के लिए तैनाती के बीच अब उनकी फूड पैकेट से पूड़ी हटा दी गई है। अब उन्हें रोटी के साथ कभी राजमा, छोले, कढ़ी तो कभी आलू-पालक की सब्जी दी जा रही है। इसके अलावा प्वाइंट पर जाकर उन्हें हल्दी मिला गर्म पानी भी दिया जा रहा है। ऐसा करने से उन्हें घर की याद भी कम आएगी और शारीरिक क्षमता भी बनी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *