…तो एक महीने में मुंबई में 70,000 तक हो जाएंगे कोरोना पॉजिटिव मरीज, यूं तैयारी में जुटी बीएमसी

मुंबई. भविष्य में मुंबई में कोरोना के बढ़ने वाले मरीजों की बड़ी संख्या होने की संभावना के चलते बीएमसी ने भी कमर कसनी शुरू कर दी है। अगले एक महीने में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 70,000 तक पहुंच जाने के ‘प्रोजेक्शन’ को ध्यान में रखते हुए बीएमसी ने गंभीर लक्षणों वाले मरीजों के लिए 3000 कोविड-केयर बेड्स की व्यवस्था करने की योजना बनाई है।
बीएमसी के इस प्लान में राज्य सरकार द्वारा संचालित जीटी अस्पताल और सीएसएमटी के पास स्थित सेंट जॉर्ज अस्पताल के 600 बेडों को टेकओवर करना शामिल है। बीएमसी के एक अधिकारी ने कहा, ‘कोवि़ड-19 मामलों को संभालना बेहतर होता है, जब अस्पताल एक कमांड के अंडर में काम करते। अस्पतालों से संबंधित मामले के प्रबंधन के लिए बीएमसी की प्रमुख सचिव मनीषा म्हैस्कर ने कहा, ‘सीएम के निर्देशों के आधार पर हमने मई के मध्य तक 3,000 क्रिटिकल-बेड उपलब्ध कराने की योजना तैयार की है।’

हर 7 दिन में दोगुने हो रहे मरीज
बीएमसी के एक अधिकारी ने कहा कि मैथमेटिकल प्रोजेक्शन इस बात पर आधारित है कि मुंबई में हर 7 दिन में मामले दोगुने हो रहे हैं। अधिकारी ने कहा, ‘हमें डर है कि मामले एक महीने में 70,000 या 80,000 तक हो सकते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘इस गणितीय गणना का समर्थन करने के लिए कोई वैज्ञानिक कारण नहीं है। लेकिन इस तरह के प्रक्षेपण से हमें सबसे खराब स्थिति के लिए तैयारी करने में मदद मिलती है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *