गोविंद सिंह होंगे नेता प्रतिपक्ष! ग्वालियर-चंबल में उपचुनाव के कारण कांग्रेस का दांव

भोपाल. शिवराज केबिनेट के गठन के बाद अब विपक्ष में आ गयी कांग्रेस को सदन में अपना नेता चुनना है. पार्टी अपने सीनियर लीडर और भिंड के लहार से विधायक डॉक्टर गोविंद सिंह को नेता प्रतिपक्ष बनाने जा रही है. कमलनाथ सरकार में संसदीय और सहकारिता विभाग की जिम्मेदारी संभालने वाले गोविंद सिंह का राजनीतिक और संसदीय अनुभव खासा लंबा है. पार्टी डॉक्टर गोविंद सिंह के उसी अनुभव के जरिए विधानसभा के अंदर सत्तापक्ष को घेरने और ग्वालियर चंबल की 16 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में मैदान में उतरेगी.

पीसीसी चीफ कमलनाथ ने विधायकों के साथ चर्चा कर डॉक्टर गोविंद सिंह को नेता प्रतिपक्ष बनाने को लेकर सहमति बना ली. जानकारी के मुताबिक पार्टी की तरफ से विधानसभा सचिवालय को 25 अप्रैल को पत्र भेजकर विपक्ष के नेता के नाम की जानकारी दे दी जाएगी. शिवराज

डॉक्टर गोविंद सिंह का नाम ही क्यों आया
जिन दो दर्जन सीटों पर उपचुनाव होना है उनमें से 23 पर कांग्रेस काबिज थी.एकमात्र आगर मालवा सीट भाजपा के पास थी. आगर से निर्वाचित मनोहर ऊंटवाल और मुरैना की जौरा विधायक रहे बनवारी लाल शर्मा के निधन के कारण ये दोनों सीटें रिक्त हुई हैं.

सिंधिया की बगावत
पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थन में 22 कांग्रेस विधायकों ने अपनी विधानसभा सदस्यता छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया है. अल्पमत में आते ही कमल नाथ सरकार को सत्ता से बेदखल होना पड़ा. कांग्रेस के सामने अब 23 सीटों पर दोबारा विजय पताका फहराने की चुनौती है. इसके लिए लॉक डाउन के दौरान भी पीसीसी चीफ कमलनाथ और दिग्विजय सिंह लगातार रणनीति बनाने में जुटे हैं. पार्टी की ओर से अब डॉक्टर गोविंद सिंह का नाम विपक्ष के नेता के तौर पर सामने आया है.

आज भोपाल आएंगे गोविंद सिंह
जानकारी के मुताबिक डॉक्टर गोविंद सिंह शुक्रवार को राजधानी पहुंचेंगे और पीसीसी चीफ कमलनाथ से मुलाकात करेंगे. उसके बाद 25 अप्रैल को कांग्रेस पार्टी की ओर से विधानसभा सचिवालय को पत्र भेजकर विपक्ष के नेता का नाम दिया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *