42 दिनों से हॉस्पिटल में भर्ती केरल की महिला का कोरोना टेस्ट 19 बार आया पॉजिटिव

मध्य केरल के पठानमथिट्टा में 62 वर्षीय एक महिला कोरोना वायरस से संक्रमित होने की वजह से पिछले 42 दिनों से अस्पताल में भर्ती है। उसका 19 बार टेस्ट किया जा चुका है और हर बार वह पॉजिटिव मिली है। डॉक्टरों का कहना है कि यह सार्स-सीओवी 2 (Sars-CoV 2) वायरस के अनियमित व्यवहार को रेखांकित करता है। लिहाजा, इस मामले के सामने आने के बाद स्वास्थ्य अधिकारियों की परेशानी बढ़ गई है, जो Covid-19 के मामलों को समतल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।
इटली से लौटे परिवार के संपर्क में आने के बाद संक्रमण से जूझ रही 62 वर्षीय महिला को कोरोना संक्रमण का कोई लक्षण भी नहीं दिखा रहा है। मगर, 19 बार टेस्ट किए जाने के बाद भी वह कोरोना पॉजिटिव पाई गई है। जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ. एन शेजा ने कहा- हमने कई बार अलग-अलग दवाओं को मिलाकर दी और कोशिश की है कि महिला का संक्रमण ठीक हो जाए, लेकिन अभी तक कोई लाभ नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि हमने इस संबंध में राज्य के मेडिकल बोर्ड से सलाह मांगी है।
महिला को इटली से लौटे एक परिवार के संपर्क में आने के बाद 10 मार्च को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। परिवार के आठ अन्य लोग कोरोना से संक्रमित थे। तीन सदस्यीय परिवार 29 फरवरी को केरल के रानी में तीन सप्ताह की छुट्टी पर अपने घर आया था और एक सप्ताह बाद कोरोना को लेकर किए गए टेस्ट में पॉजिटिव पाए जाने से पहले वे कई लोगों से मिले, जिससे बीमारी फैल गई।
महिला को अभी कोई अन्य स्वास्थ्य समस्याएं नहीं हैं। हालांकि, वह स्पर्शोन्मुख है और दूसरों को बीमारी पहुंचा सकती है। महिला का इलाज करने वाले डॉक्टर ने बताया कि यदि उसका अगला टेस्ट भी पॉजिटिव आता है, तो हम उसे कोजेनचेरी के सरकारी अस्पताल से कोट्टायम मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भेजने की योजना बना रहे हैं। इस बीमारी के देर से लक्षणों के दिखने की बात ने भी डॉक्टरों को चिंता में डाल दिया है। कोझीकोड (उत्तर केरल) में, एक व्यक्ति 18 मार्च को दुबई से लौटा था, वायरस के संपर्क में आने के कम से कम 29 दिन बाद उसका टेस्ट पॉजिटिव मिला।
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना वायरस के लिए 14 दिन का इनक्यूबेशन पीरियड तय किया था, लेकिन केरल ने इसे 28 दिन तक बढ़ा दिया, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि एक स्पर्शोन्मुख व्यक्ति या रोगी पूरी तरह से कीटाणुरहित हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *