भारत में सबसे ज्यादा मई में बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले, लॉकडाउन ने की बड़ी मदद : सूत्र

नई दिल्ली: देश में कोरोनावायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. गृह मंत्रालय से जुडे़ सूत्रों की मानें तो सरकार का आंतरिक आकलन है कि भारत में कोरोना के मामले मई के पहले हफ्ते में अपने चरम पर होंगे. इसके बाद कोरोना संक्रमितों की संख्या कम होने लगेगी. जिन राज्यों ने सबसे पहले लॉकडाउन शुरू किया था, उनमें कोरोना संक्रमितों की संख्या व अन्य मुश्किलें कम होंगी. राजस्थान, पंजाब और बिहार सरकार ने कोरोना के मामलों को देखते हुए पहले ही लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी. उत्तर प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र की तुलना में इन राज्यों में कोरोना के कम मामले सामने आए हैं.
एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सरकार मान रही है कि अगले कुछ दिनों में कोरोना के मामले बढ़ेंगे. उन्होंने कहा, ‘हम ज्यादा लोगों के टेस्ट करेंगे तो नंबर बढ़ेंगे और जिन लोगों को लक्षण दिखाई देने के बाद आइसोलेट किया गया है, ऐसे लोगों की संख्या भी बढ़ रही है. अगला एक हफ्ता बेहद अहम है. भारत तेजी से संदिग्धों की जांच कर रहा है. जिन लोगों में बीमारी के लक्षण नजर आ रहे हैं, टेस्ट के लिए उनका सैंपल लिया जा रहा है.’

बता दें कि 14 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 दिनों के लिए लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा की थी. तब से लेकर अब तक भारत में करीब 2800 कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं. 36 हजार लोगों को या तो क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है या फिर उन्हें उनके घरों में अलग किया गया है. गुरुवार तक करीब 3,60,000 लोग आइसोलेशन या होम क्वारंटाइन थे. इनमें से ज्यादातर लोगों की जांच सरकार की ओर से की गई थी. सरकार के लिए संक्रमण को रोकना भी किसी चुनौती से कम नहीं है.

इसमें कोई शक नहीं है कि लॉकडाउन से कोरोना के मामले में कमी देखने को मिली है. केंद्र सरकार के अधिकारियों ने तीन राज्यों का उदाहरण दिया है. राजस्थान सबसे पहला राज्य था जिसने पूरी तरह लॉकडाउन करने के आदेश दिए थे. वहां 1076 मामले सामने आए, जिनमें से 221 मरीज ठीक हो गए. गृह मंत्रालय द्वारा गुरुवार तक के जमा किए गए डेटा के अनुसार, राजस्थान में 7,448 लोग आइसोलेशन में हैं. पंजाब में 188 मरीज सामने आए हैं, जिनमें से 27 बिल्कुल स्वस्थ हो चुके हैं. वहां 13 लोगों की मौत हुई है. पंजाब में अभी 11 हजार लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है.

बिहार में कोरोना के 72 मामले सामने आए हैं और 29 मरीज ठीक हुए हैं. कोरोना संक्रमित एक शख्स की मौत हुई है. राज्य में करीब 12 हजार लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है. महाराष्ट्र की बात करें तो वहां देश में सबसे ज्यादा कोरोना के मामले सामने आए हैं. वहां 3000 से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं और 75 हजार लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है. महाराष्ट्र में कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें भी हुई हैं. अभी तक वहां 187 लोगों की जान जा चुकी है. उत्तर प्रदेश में अभी तक 727 मामले सामने आए हैं. 51 मरीज ठीक हुए हैं और 11 लोगों की मौत हुई है. वहां 37,223 लोगों को आइसोलेट किया गया है.

गुजरात में 766 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं. 118 लोग ठीक हो चुके हैं. 33 लोगों की मौत हुई है और 15,147 लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है. दिल्ली में बीते मंगलवार से लेकर बुधवार तक कोरोना के कुल 424 मामले सामने आए. वहां करीब 14 हजार लोगों को क्वारंटाइन किया गया है. आंकड़ों से लिहाज से आंध्र प्रदेश और मध्य प्रदेश भी चिंता की वजह बने हुए हैं. आंध्र में 525 मामलों की पुष्टि हो चुकी है. वहां 58,534 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है. इतनी संख्या में लोगों को आइसोलेट करने वाला आंध्र दूसरा राज्य है. मध्य प्रदेश में कोरोना के अभी तक 938 मामले सामने आ चुके हैं. वहां 53 मरीजों की मौत हुई है. MP में करीब 9000 लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *