लिफ्ट के इस्तेमाल के भी नियम तय किए गए, लॉकडाउन के दौरान शादी में भीड़ जुटाई तो एक साल की सजा का प्रावधान

  • अंतिम संस्कार में 20 से ज्यादा लोगों के शामिल होने की मनाही
  • चार पहिए में दो लोग और टू व्हीलर पर बस एक व्यक्ति कर सकेगा ट्रेवल

नई दिल्ली. कोरोना वायरस को लेकर सरकार की नई गाइडलाइन में आम लोगों के लिए कई निर्देश हैं। इनमें पब्लिक प्लेस पर मास्क पहनने की अनिवार्यता और थूकने पर जुर्माने जैसी बातें भी शामिल हैं। इसमें क्वारंटाइन में रहने पर, वर्कप्लेस पर, सड़कों पर आने-जाने से लेकर अंतिम संस्कार में शामिल होने और लिफ्ट के इस्तेमाल तक को लेकर जरूरी निर्देश दिए गए हैं। ये हैं आपके और हमारे लिए कुछ अहम निर्देश…

पब्लिक प्लेस पर मास्क जरूरी
सार्वजनिक स्थानों और काम करने की जगह पर मास्क पहनना जरूरी होगा। पब्लिक प्लेस पर थूकने पर सजा और जुर्माना दोनों हो सकता है। यदि ऐसा करने से किसी को जान का नुकसान हुआ तो 2 साल जेल हो सकती है। सभी जगहों पर सरकार के निर्देशों के अनुसार सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना पड़ेगा।

शादी पर भीड़ जुटाई तो सजा हो सकती है
शादी या अंतिम संस्कार जैसे मौकों पर प्रशासन के निर्देशों का पालन करना होगा। अंतिम संस्कार में 20 से ज्यादा लोग शामिल नहीं हो सकेंगे। शराब, गुटखा और तंबाकू उत्पाद की बिक्री और इसे खाकर थूकने पर भी प्रतिबंध रहेगा। शादी में भीड़ जुटाई या धार्मिक आयोजन किए तो एक साल की सजा और यदि इन समारोहों में किसी की जान का नुकसान हुआ तो 2 साल की सजा हो सकती है।

फोर व्हीलर में सिर्फ दो लोग बैठ सकेंगे
इमरजेंसी सर्विस, मेडिकल और वेटेनरी केयर से जुड़ी या फिर जरूरी सामान लेने जाने के लिए प्राइवेट गाड़ी का इस्तेमाल किया जा सकेगा, लेकिन चार पहिया गाड़ी में ड्राइवर और बैक सीट पर एक व्यक्ति, जबकि टू व्हीलर में सिर्फ ड्राइवर को जाने की इजाजत रहेगी। नौकरी पर जाने और वहां से लौटने के दौरान वह गाड़ी का इस्तेमाल कर सकेंगे।

क्वारंटाइन में रहने के नियम नहीं माने तो कार्रवाई होगी
जिन लोगों को मेडिकल अथॉरिटीज ने घरों या बाकी जगहों पर क्वारंटाइन में रहने को कहा है, वे कड़ाई से इसका पालन करेंगे। जो नहीं करेंगे, उन पर आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई होगी।

वर्क प्लेस को लेकर गाइडलाइन

  • सभी संस्थानों में कर्मचारियों की थर्मल स्क्रीनिंग और सैनिटाइजेशन की व्यवस्था करनी होगी।
  • शिफ्ट बदलने के दौरान एक घंटे की गैप देना जरूरी होगा। लंच का समय भी अलग-अलग रखना होगा ताकि इस दौरान भी सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष तौर पर ध्यान रखा जाए।
  • घर में 65 साल से अधिक के बुजुर्ग या जिनके 5 साल से कम उम्र के बच्चे हैं, ऐसे कर्मचारियों को घर के काम करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए।
  • निजी और सरकारी क्षेत्र के सभी कर्मचारियों को आरोग्य सेतु ऐप के इस्तेमाल को बढ़ावा देना होगा।
  • संस्थान या ऑफिस में बड़े स्तर पर मीटिंग नहीं की जा सकेंगी। किसी भी संस्थान में 5 या उससे ज्यादा लोगों के एक साथ जमा होने पर रोक रहेगी। लिफ्ट में एक वक्त में दो से ज्यादा लोगों को नहीं जाने दिया जाए।
  • मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर के लोगों के लिए बार-बार हाथ धोने की अनिवार्यता रहेगी और कॉमन एरिया की सफाई की जानी होगी। हाईजीन को लेकर इन्हें ट्रेनिंग भी देना होगा।
  • सभी संस्थान शिफ्ट खत्म होने पर ऑफिस या परिसर को सैनिटाइजेशन कराएं। ऑफिस की बिल्डिंग, एंट्री गेट, कैफेटेरिया और केंटीन का सेनिटाइजेशन, कैबिन, कांफ्रेंस हॉल, वरांडा, लिफ्ट, वॉशरूम और इक्विपमेंट्स भी।
  • बाहर से आनेवाले कर्मचारियों और वर्कर के लिए ट्रांसपोर्ट की व्यस्था की जाए और गाड़ी में कैपेसिटी से सिर्फ 30-40 प्रतिशत लोगों को बैठाया जाए।
  • सभी का मेडिकल इंश्योरेंस करना अनिवार्य होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *