सिंधिया समर्थक पूर्व मंत्रियों के पास पहुंचे फोन, मंत्रिमंडल गठन इसी हफ्ते

सीएम हाऊस से गए फोन, 15 की शाम तक बुलाया भोपाल, शिवराज करेंगे चर्चा
16-17 को शपथ ले सकते हैं नए मंत्री, 25 से 28 सदस्यीय होगा मंत्रिमंडल
भोपाल।
कोरोना वायरस के कहर के चलते टला शिवराज मंत्रिमंडल का गठन 16 अप्रैल को हो सकता है। सीएम हाऊस से मंत्री पद के दावेदारों के पास फोन पहुंचना शुरू हो गए हैं। इन नेताओं से 15 की शाम तक भोपाल आने को कहा है। अब तक सिंधिया समर्थक अधिकांश पूर्व मंत्रियों के पास फोन पहुंच चुके हैं। माना जा रहा है कि सीएम 16 अप्रैल को मंत्रिमंडल का गठन कर सकते हैं। शिवराज सिंह चौहान ने 23 मार्च को सीएम पद की शपथ ली थी। उसके बाद से देश के साथ प्रदेश में भी कोरोना वायरस का संकट गहरा गया था। तब से वे अकेले ही वन मैन आर्मी की तरह काम कर रहे हैं। मंगलवार के बाद से प्रदेश के कई हिस्सों में लाकडाउन कुछ शर्तो के साथ शिथिल किए जाने की संभावना है। ये वे जिले हैं जहां कोरोना वायरस के मरीज नहीं मिले हैं या फिर स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। इसे देखते हुए सीएम अब अपनी सहायता के लिए मंत्रिमंडल का गठन करने पर विचार कर रहे हैं। इसके लिए उनकी संगठन नेताओं से भी दो-तीन दौर की चर्चा हो चुकी है।
दिल्ली जा सकते हैं सीएम
मंत्रिमंडल गठन को अंतिम रूप देने के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान 14 की शाम दिल्ली भी जा सकते हैं। 14 अप्रैल यानि मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश की जनता के नाम फिर से संबोधन देने वाले हैं। इसके बाद लाकडाउन को लेकर तस्वीर और साफ होगी। सूत्रों ने बताया कि 14 की शाम दिल्ली जाकर पार्टी के शीर्ष नेताओं से मिल सकते हैं। यहां संगठन नेताओं के परामर्श से तैयार सूची को अंतिम रूप दिया जा सकता है। संगठन सूत्रों की माने तो सीएम की इस बीच पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से भी चर्चा हुई है।
सिंधिया समर्थक ये मंत्री कतार में
मंत्री बनने वालों में सिंधिया के साथ कांग्रेस से बगावत कर भाजपा का दामन थामने वाले छह पूर्व मंत्री कतार में हैं। इनमें से कई के पास सोमवार को दोपहर सीएम हाऊस से फोन पहुंचे हैं। इन नेताओं से कहा गया है कि वे 15 अप्रैल की शाम तक भोपाल आ जाए। सीएम उनसे 15 या 16 को मुलाकात करेंगे। इन फोन काल्स के बाद से सियासी सरगर्मियां बढ़ गई है। सिंधिया समर्थक तीन पूर्व मंत्रियों ने आफ द रिकार्ड सीएम हाऊस से फोन आने की पुष्टि करते हुए बताया कि वे 15 को भोपाल आ रहे हैं।
वे बोले
23 तारीख से हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई में लगे थे, इसलिए पार्टी ने फैसला किया था कि मंत्रिमंडल का गठन कुछ समय के लिए टाल दिया जाए। अब 14 तारीख को लाकडाउन का पहला चरण समाप्त हो रहा है। आगे जैसी परिस्थितयां बनेंगी पार्टी नेताओं के साथ विचार-विमर्श कर फैसला करेंगे।
शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री

मंत्रिमंडल में होंगे 25 से 28 सदस्य
शिवराज मंत्रिमंडल में 25 से 28 विधायकों, पूर्व विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है। इनमें छह वे पूर्व विधायक हैं जो कमलनाथ सरकार में मंत्री थे और इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हुए हैं। इनमें गोविंद राजूपत, महेन्द्र सिसौदिया, इमरती देवी, प्रभूराम चौधरी, तुलसी सिलावट और प्रद्युन सिंह तोमर शामिल हैं। इसके अलावा कांग्रेस छोड़कर आए ऐदल सिंह कंसाना, बिसाहूलाल सिंह, हरदीप डंग का नाम भी मंत्री बनने वालों की लिस्ट में शामिल हो सकता है। वहीं भाजपा में नरोत्तम मिश्रा, गोपाल भार्गव, भूपेन्द्र सिंह, यशोधरा राजे सिंधिया, विजय शाह, अजय विश्नोई, राजेन्द्र शुक्ला, गौरीशंकर बिसेन, रामपाल सिंह राजपूत, विश्वास सारंग, संजय पाठक, अरविंद भदौरिया, पारस जैन, हरिशंकर खटीक का मंत्री बनना तय माना जा रहा है। इसके अलावा केदारनाथ शुक्ला, ओमप्रकाश सकलेचा, यशपाल सिंह सिसौदिया, मालिनी गौड़, रमेश मेंदोला, गिरीश गौतम, नागेन्द्र सिंह के नाम भी विचार में हैं। अंतिम फैसला दिल्ली से होना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *