श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का लोगो जारी; धनुर्धर प्रभु श्रीराम के साथ भक्त वत्सल हनुमान का चित्र

  • ट्रस्ट के महासचिव चंपतराय ने जारी किया लोगो, कहा- प्रभु राम व हनुमानजी हमारी सदैव रक्षा करेंगे
  • कोरोना संकट के चलते 84 कोसी परिक्रमा व हनुमान जन्मोत्सव कार्यक्रम स्थगित

अयोध्या. हनुमान जयंती के अवसर पर बुधवार को श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अपना लोगो जारी किया। इस लोगो में धनुषधारी प्रभु राम के चित्र को केंद्र में रखा गया है। साथ ही उनके परमभक्त बजरंगी बली के चित्र को भी शामिल किया गया है। ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा- लोगो के केंद्र में धनुषधारी प्रभु राम का चित्र है। जबकि, साइड में हनुमानजी हैं। प्रभु राम व हनुमान जी सदैव देश की रक्षा करेंगे।

लोगो की अपनी विशेषता
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का लोगो (अमूर्त चित्र) भी विशेष है। इसमें प्रभु राम की सौम्य छवि है। जिनके ऊपर वलयाकार ऊपरी परिधि पर में ट्रस्ट का नाम लिखा हुआ है। नाम के पूर्व व नाम के समापन पर हनुमानजी का चित्र है। लोगो में सूर्य की तेजवान किरणें भी हैं। आधार पर रामो विग्रहवान धर्म: अंकित है। मतलब राम धर्म का साकार रूप हैं।

84 कोसी परिक्रमा स्थगित, घरों पर प्रभु राम के विग्रह की अर्चना करें श्रद्धालु

विश्व हिंदू परिषद ने बस्ती जिले के मखौड़ा से शुरू होने वाली 84 कोसी परिक्रमा को स्थगित कर दिया है। परिषद ने बुधवार को अपने घरों में प्रभु राम के विग्रह अथवा चित्र की परिक्रमा कर इसे सांकेतिक तौर पर पूरी करने को कहा है। मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने बताया कि 84 कोसी परिक्रमा क्षेत्र में पड़ने वाले 24 धार्मिक विश्राम स्थलों के प्रभारियों से कहा गया है कि वे अपने इलाके के श्रद्धालुगण से सांकेतिक तौर पर इसे अपने घरों में पूरा करने के लिए अपील जारी करें। आज के दिन घरों में ही हनुमान चालीसा व सुंदरकांड का पाठ करके पूरे इलाके में ईश्वर से प्रार्थना करें की कोरोना जैसी महामारी से देश को जल्दी मुक्ति मिले।

हनुमान जयंती उत्सव भी टला, मंदिरों में लगे भोग

84 कोसी परिक्रमा मखोड़ा से शुरू होनी थी, जो अंबेडकरनगर, सुल्तानपुर, बाराबंकी आदि जिलों से होकर अयोध्या में समाप्त होती है। कोरोनावायरस संकट के चलते विश्व हिंदू परिषद ने सभी कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया है। विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने कहा- कोरोना संकट के कारण इस साल परिक्रमा स्थगित कर दी गई है जो अगले साल पूरी भव्यता के साथ निकली जाएगी। संतों ने कहा कि कोरोना संकट के कारण हनुमान जयंती का उत्सव भी स्थगित कर दिया गया है। हालांकि मंदिरों में हनुमान जी की पूजा होगी।

ट्रस्ट में 5 करोड़ से ज्यादा रकम जमा हुई
राम जन्मभूमि ट्रस्ट का खाता 25 अप्रैल को खोला गया था और आधिकारिक तौर पर 2 अप्रैल को इस बारे में जानकारी दी गई। इस खाते में अब तक 5 करोड़ से ज्यादा रकम जमा हो चुकी है। दान करने वालों में सबसे ज्यादा वो लोग हैं, जो एक रुपए से लेकर 11 हजार तक की रकम खाते में डाल रहे हैं। 

जन्मभूमि के मुख्य पुजारी कर रहे बंदरों-गिलहरियों की मदद

राम जन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने अयोध्या में बंदरों को फल खिलाए। लॉकडाउन की वजह से यहां जानवरों के सामने भी संकट खड़ा हो गया है। उन्हें खाने पीने का सामान नहीं मिल पा रहा है, जो उन्हें बाजार, मंदिर और खाने-पीने की दुकानें खुली होने पर मिल जाता था। इसी तरह जन्मभूमि में पुजारी प्रदीप दास गिलहरियों को रोज दाना खिलाते हैं। दास ने बताया कि वाल्मीकि रामायण के मुताबिक गलहरियों के पीठ पर पड़ी धारियां श्रीराम के हाथ फेरने की वजह से हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *