स्पीकर ओम बिरला की सभी सांसदों की अपील- सैलरी और सांसद निधि से पीएम-केयर में सहयोग दें

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए देशवासियों से आर्थिक सहयोग की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद पीएम केयर फंड में व्यक्ति और संगठन सहयोग देने के लिए आगे बढ़ रहे हैं। इस बीच लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सभी सांसदों से अपील की है कि कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिए वे कम से कम एक महीने का अपना वेतन पीएम-केयर फंड में भेजकर सहयोग करें। इसके अलावा उन्होंने सभी सांसदों से अपनी-अपनी सांसद निधि से कम से कम एक-एक करोड़ रुपये कोरोना से निपटने के लिए मंजूरी दें।
कम से कम 1 महीने की सैलरी दें सभी सांसद: स्पीकर
स्पीकर ने ट्वीट किया, ‘मैं लोक सभा के सभी माननीय सांसदों से अपील करता हूं कि वे अपना कम से कम एक माह का वेतन PM-Cares Fund में भेजकर सहयोग प्रदान करें और कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एकात्म भाव दिखाएं।’ राज्यसभा सदस्य राकेश सिन्हा जैसे कुछ सांसद तो पहले ही कोरोना से निपटने के लिए एक महीने की सैलरी देने का ऐलान कर चुके हैं।
आईएएस असोसिएशन ने 21 लाख देने का किया ऐलान
प्रधानमंत्री मोदी की अपील के बाद खेल, फिल्म, नौकरशाही समेत तमाम क्षेत्रों की हस्तियों के साथ-साथ आम लोग भी पीएम-केयर फंड में सहयोग देने के लिए आगे आ रहे हैं। इसी कड़ी में आईएएस असोसिएशन ने पीएम केयर फंड में 21 लाख रुपये सहयोग का ऐलान किया है। प्रधानमंत्री ने इसकी तारीफ की है।
100 करोड़ रुपये की क्राउड फंडिंग के लिए अभियान
इसी तरह फोन-पे ने कोरोना वायरस से लड़ाई के लिए क्राउड फंडिंग की शुरुआत की है। उसने लोगों से यूपीआई के माध्यम से 10-10 रुपये सहयोग की अपील की है। क्राउड फंडिंग के लिए 100 करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने इसे लेकर लिखा, ‘यह बड़ी तादाद में भारतीयों को पीएम-केयर में डोनेट करने के लिए प्रेरित करेगा।’
स्पीकर ने सांसदों से सांसद निधि से कम से कम 1-1 करोड़ देने की अपील की
लोकसभा स्पीकर की तरफ से जारी एक बयान में बताया गया है कि स्पीकर ने सभी सांसदों से गुजारिश की है कि वे कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के खातिर जरूरी टेस्ट किट, मास्क, पर्सनल प्रोटेक्शन किट और दूसरे मेडिकल उपकरणों के लिए अपनी सांसद निधि से सहयोग दें। उन्होंने सभी सांसदों से अपील की है कि वे सांसद निधि से कम से कम 1-1 करोड़ रुपये का सहयोग दें। इसके लिए उन्होंने सभी सांसदों से इस आशय के कंसेंट फॉर्म को भरकर सांख्यिकी मंत्रालय को भेजने को कहा है।
संकट के समय जनप्रतिनिधियों का फर्ज भी बढ़ जाता है: स्पीकर
बयान में कोविड-19 महामारी के मद्देनजर जनप्रतिनिधियों की अहम भूमिका का जिक्र करते हुए बिरला ने कहा है कि ऐसे संकट में हमारा दायित्व और भी बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि यह सुनिश्चित करें कि लॉकडाउन के कारण गरीबों और जरूरतमंदों को उनकी मूलभूत जरूरतों की पूर्ति में कोई बाधा पैदा न हो। उन्होंने कहा कि इसीलिए सांसदों को उनके संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों के अंदर गरीबों और जरूरतमंद लोगों को जन-सहयोग द्वारा खाद्य सामग्रियों एवं रोजमर्रा की जरूरतों के सामानों की आपूर्ति करने के लिए हमें पूरा प्रयास करने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *