दिग्विजय सिंह और कमलनाथ का राजनैतिक आतंकवाद

कमलनाथ और दिग्विजय सिंह से आहत होकर सिंधिया ने छोडी कांग्रेस
कांग्रेस आने वाले समय में अपनी निशानी तलाशेगी-मन्दिरजीत सिंह बिट्टा


दतिया।
भारतीय युवा कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं अखिल भारतीय आतंकवाद विरोधी मोर्चा के अध्यक्ष मनिन्दरजीत सिंह बिट्टा आज अल्प प्रवास पर दतिया पहुंचे बिट्टा की दतिया में यह धार्मिक यात्रा थी। वह पीताम्बरा मंदिर पर दर्शन एवं पूजा-अर्चना हेतू आये थे। उन्होने मध्यप्रदेश की सियासी हलचल को लेकर कहा कि यह सब दिग्विजय सिंह और कमलनाथ का राजनैतिक आतंकवाद है। उन्होंने बताया मैने युवा अवस्था में कांग्रेस को इसलिए छोड़कर सामाजिक कार्य शुरू किया था कि कांग्रेस में युवाओं की बात को कोई नहीं सुनता है। युवाओं की आवाज पूर्णत: दबाई जाती है। उन्होने मध्यप्रदेश की कांग्रेस में मचे घमासान का दोषी नम्बर एक पर दिग्विजय सिंह और दूसरे पर कमलनाथ को बताया है। उन्होंने कहा मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे नेताओं के कारण पुर्नजीवित हुई थी लेकिन आज अपमान से आहत होकर ज्योतिरादित्य सिंधिया को भागना पड़ा है। सियासी नेता प्रायोजित ढंग से सिंधिया की तस्वीरों में जूते मार रहे है। उन्हें गद्दार कह रहे है जबकि देश का गद्दार दिग्विजय सिंह है जो आजादी के नारे लगवा रहा है। दिग्विजय सिंह ने भगवा आतंकवाद जैसे शब्द दिए है कांग्रेस में वन्देमातरम का नारा बंद हो गया है। उन्होंने मध्यप्रदेश कांग्रेस पर सीधा वार किया है।
श्री बिट्टा ने कहा कि यहां के कांग्रेसी देश और विकास की बात नहीं करते है यहॉ कांग्रेस घरानों में बंटी है और देश की जगह घरानों की जयजयकार होती है मनिन्दरजीत सिंह बिट्टा ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को युवाओं का अच्छा लीडर बताया है। उन्होने कहा सिर्फ सिंधिया वन्देमातरम के नारे लगाते है यह लीडर कांग्रेस ने खो दिया। यही वजह से कि आज युवा नेता मध्यप्रदेश में इस्तीफा पर इस्तीफा दे रहे है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की गंदी सियायत के कारण मध्यप्रदेश में कांगे्रस की निशानी तक बचाना मुश्किल होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *