जीतू पटवारी ने विधायकों के गायब होने के घटनाक्रम पर शिवराज को मास्टरमाइंड बताया; भाजपा बोली- सरकार खुद अंतर्कलह से परेशान

भोपाल. मध्य प्रदेश में कांग्रेस समर्थित विधायकों के खरीद-फरोख्त के आरोपों से सियासी घमासान छिड़ा है। भाजपा और कांग्रेस एक-दूसरे पर हमलावर हैं। भाजपा इसे कांग्रेस के बीच अंतरविरोध के कारण विधायकों की नाराजगी बता रही है तो कांग्रेस का कहना है कि भाजपा उसके विधायकों को खरीद-फरोख्त करने की कोशिश में है। सरकार पर कोई संकट नहीं है। मंगलवार देर रात कांग्रेस ने दावा किया था कि भाजपा ने कांग्रेस के 6, बसपा के 2 (एक निलंबित) और एक निर्दलीय विधायक को गुड़गांव के आईटीसी मराठा होटल में बंधक बनाया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह 2 दिन से भाजपा पर हॉर्स ट्रेडिंग के आरोप लगा रहे हैं।

क्या कहते हैं कांग्रेस नेता

  • मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान इस पूरे मामले के मास्टर माइंड हैं। अब कई वीडियो और ऑडियो वायरल हो चुके हैं, जो सारे घटनाक्रम में उनका रोल जाहिर करते हैं। भाजपा लोकतंत्र की हत्या करना चाहती है। मोदीजी दूसरे तरह की राजनीति की बात करते हैं, क्या यह उसी तरह की राजनीति है। विधायकों को 50 से 60 करोड रुपए का ऑफर दिया गया है। कुछ विधायक बेंगलुरु में हैं, लेकिन वे हमारे साथ हैं। पटवारी यह कहते हुए भी सुने गए कि भाजपा नेताओं ने इन विधायकों को बंधक बना रखा है। इनको पैसे दिए गए हैं।
  • दिग्विजय सिंह ने कहा- भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा ने मंत्री रहते बहुत रुपया कमाया है। होटल में थैलों में नोटभर कर लाए गए थे। अब सरकार पर कोई संकट ही नहीं है। कांग्रेस और सरकार का समर्थन कर रहे विधायकों को भाजपा की खरीदने की हिम्मत नहीं।
  • मंत्री जयवर्धन ने कहा कि रामबाई को गुमराह करके लाए थे। हमारी उनसे मुलाकात हो गई है। वे हमारे साथ हैं।
  • प्रदेश कांग्रेस की मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने कहा कि भाजपा को ऐसे हथकंडे अपनाने की जगह सदन में फ्लोर टेस्ट कराना चाहिए।
  • कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल ने कहा कि अमित शाह, शिवराज सिंह चौहान, नरोत्तम मिश्रा का गेम प्लान था। दिग्विजय सिंह को पल-पल की खबर थी। सभी विधायक पार्टी के सम्पर्क में हैं, सभी की घर वापसी होगी।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा- आरोप सरासर गलत

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा- मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार खुद अंतर्विरोध और अंतर्कलह से ग्रसित है। भाजपा पर जो आरोप लगा रहे हैं वह सरासर गलत है। इस मामले में भाजपा का कोई लेना-देना नहीं है और ना ही कोई ऐसा प्रयास है। उन्होंने इस बात से भी इंकार किया कि भाजपा कांग्रेस और कुछ अन्य दलों के विधायकों को प्रलोभन दे रही है।

विधायकों को बंधक बनाया गया

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह दिल्ली में हैं। मंगलवार देर शाम राज्य के मंत्री जीतू पटवारी, जयवर्धन सिंह और सुरेंद्र सिंह हनी दिल्ली पहुंचे। वे सभी कथित तौर पर दिल्ली में मौजूद कांग्रेस, बसपा और निर्दलीय विधायकों से संपर्क करने का प्रयास करते रहे। बसपा के संजीव कुशवाह के अलावा कांग्रेस के बिसाहूलाल सिंह, हरदीप सिंह और ऐदल सिंह कंसाना और निर्दलीय सुरेंद्र सिंह शेरा को मध्यप्रदेश के बाहर ले जाया गया है। कांग्रेस नेताओं का आरोप है कि भाजपा नेता उन्हें 3 दिन से दिल्ली में रखे है। कुछ और विधायकों को भाजपा नेता प्रलोभन दे रहे हैं।

दिग्विजय सिंह ने लगाया था आरोप

दिल्ली में 2 दिन पहले दिग्विजय सिंह ने मीडिया के समक्ष आरोप लगाया था कि भाजपा राज्य के कांग्रेस विधायकों को अपने पाले में लाने के लिए 25 से 35 करोड़ रुपए तक ऑफर दे रही है। उन्होंने यह भी कहा था कि वे बगैर प्रमाण के कोई बात नहीं करते हैं। उनके बयान के बाद राजनीति अचानक गर्मा गई और मंगलवार रात प्रदेश से भाजपा और कांग्रेस के अनेक नेता दिल्ली पहुंच गए। इस मुद्दे को लेकर दोनों दलों की ओर से बयानबाजियां भी हो रही हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *