दिग्विजय सिंह का ट्वीट- क्या विधायक रामबाई को दिल्ली नहीं ले गए भाजपा नेता?

भोपाल। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने मंगलवार सुबह ट्वीट कर कहा कि भाजपा ने मध्य प्रदेश में भाजपा ने कांग्रेस, बसपा और समाजवादी विधायकों को दिल्ली लाने की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी है। बसपा की विधायक श्रीमती राम बाई को क्या भाजपा के पूर्व मंत्री भूपेन्द्र सिंह जी कल चार्टर फ्लाइट में भोपाल से दिल्ली नहीं लाए? शिवराज जी कुछ कहना चाहेंगे? उन्होंने लिखा है कि लेकिन हमें श्रीमती राम बाई पर पूरा भरोसा है वे कमलनाथ जी की प्रशंसक हैं और उनका समर्थन करती रहेंगी। इसके पहले सोमवार को दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर सनसनीखेज आरोप लगाए थे कि मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने के लिए कांग्रेस विधायकों को रिश्वत का लालच दिया जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और नरोत्तम मिश्रा, खुलेआम कांग्रेस विधायकों को 25 से 35 करोड़ रुपये का ऑफर दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह कर्नाटक नहीं है। मध्य प्रदेश में एक भी विधायक बिकाऊ नहीं है।
दिग्विजय सिंह ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान और नरोत्तम मिश्रा दोनों में यह तय हुआ है कि एक मुख्यमंत्री और दूसरा उप मुख्यमंत्री बनेगा, इसलिए दोनों मिलकर विधायकों की तोड़-फोड़ में जुटे हुए हैं। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सिंह ने चेताया कि भाजपा नेता अपनी हरकतों से बाज आएं और पांच साल विपक्ष में बैठें। दिग्विजय ने कहा, इस तरह के ऑफर कांग्रेस विधायकों को दिए जाते हैं तो क्या हमारे पास खबरें नहीं आएंगी। उन्होंने कहा कि मैं बगैर तथ्यों के कोई आरोप नहीं लगाता। अभी लगभग 10 विधायकों के पास ये ऑफर आए हैं, जिसकी जानकारी वे हमें देते हैं।

मुख्यमंत्री को ब्लैकमेल कर रहे हैं दिग्विजय : शिवराज सिंह चौहान

उधर दिग्विजय सिंह पर पलटवार करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ को ब्लैकमेल करने के इरादे से सिंह इस तरह के आरोप लगा रहे हैं। यह उनकी आदत रही है। उनके कुछ काम नहीं हो रहे होंगे, इसलिए अपना महत्व बताने के लिए वे इस तरह की बातें कर रहे हैं।

राज्यसभा की चिंता हो रही है दिग्विजय को : पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि दिग्विजय सिंह को कोई गंभीरता से नहीं लेता। लगता है उन्हें अपनी राज्यसभा सीट की चिंता हो रही है। सिंह ने पहले सौ करोड़ रुपये रिश्वत का आरोप लगाया था, अब 25 करोड़ रुपए का आरोप लगा रहे हैं।

विधायकों का अपमान है : नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि विधायकों पर पैसे के लेन-देन का आरोप लगाना उनका सबसे बड़ा अपमान है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के भीतर ही कई सारे गुट हैं, जिनमें असंतोष है। इसी भय से दिग्विजय आरोप लगा रहे हैं।

कोई मुद्दा नहीं मिला तो लगा दिया आरोप : प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि लगता है कि दिग्विजय सिंह को आज ऐसा कोई मुद्दा नहीं मिला होगा, जिससे दंगा भड़क जाए, इसलिए उन्होंने ऐसा आरोप लगाया।

भाजपा विधायक शरद कोल हुए बागी, कमलनाथ सरकार की प्रशंसा की

भाजपा विधायक शरद कोल के फिर बागी तेवर सामने आए हैं। गोवंश वध प्रतिषेध अधिनियम में संशोधन पर विधानसभा में कांग्रेस का साथ देने वाले कोल ने पार्टी को अजा-जजा, ओबीसी को उचित स्थान नहीं दिए जाने के आरोप लगाए हैं। उन्होंने बिजली बिल कम करने पर कमलनाथ सरकार की प्रशंसा की। कोल का सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें आरोप लगा रहे हैं कि अब तक भाजपा या आरएसएस के प्रमुख पदों पर अजा-जजा, ओबीसी के नेता की नियुक्ति नहीं हुई है। वीडियो की पुष्टि के लिए संपर्क का प्रयास किया गया तो वह नहीं मिलेगा। पीसीसी अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि कोल का बयान बताता है कि वक्त है बदलाव का। प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष रामलाल रौतेल ने कोल के वीडियो को फर्जी बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *