मध्‍य प्रदेश में माफिया के खिलाफ चलता रहेगा अभियान : कमल नाथ

इंदौर। मध्यप्रदेश की पहचान माफिया से नहीं हो सकती, इसीलिए हमने माफिया के खिलाफ अभियान शुरू किया है। यह चलता रहेगा। कमल नाथ को कोई दबा नहीं सकता, कोई पटा नहीं सकता। हमें अपनी पहचान बदलनी है। मध्यप्रदेश की पहचान यहां की सरल और मेहनती जनता से होना चाहिए। 15 साल में घोषणाएं सुनते-सुनते मध्यप्रदेश की जनता का पेट भर गया, लेकिन मैं घोषणाएं नहीं करता। घोषणाओं से तालियां तो बज जाती हैं, लेकिन मैं तालियों की खोज में नहीं हूं। मैं तो उस खोज में हूं कि काम हो तो आप दिल से तालियां बजाएं।

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने शुक्रवार को इंदौर के रंगवासा में यह बात कही। वे राऊ विधानसभा में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के दूसरे चरण की शुरुआत करने आए थे। इस दौरान उन्होंने राऊ क्षेत्र में 800 करोड़ से अधिक के विकास कार्यों का शिलान्यास किया। किसान कर्ज माफी को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने वचन दिया था, वचन पूरा करेंगे। हम कृषि क्षेत्र में नई क्रांति लाएंगे।
मुख्यमंत्री ने भाजपा के राष्ट्रवाद के नारे पर भी तंज कसा। उन्होंने कहा कि बड़े दुख की बात है कि आज मोदीजी नौजवानों की, रोजगार की, किसानों की बात नहीं करते। वे पाकिस्तान की बात करते हैं। मैं पूछना चाहता हूं, ठीक है हम पाकिस्तान का मुकाबला करने को तैयार हैं, पर पहले हमारे नौजवानों का भविष्य तो सुरक्षित बने, तभी हम पाकिस्तान से सामना कर पाएंगे। मैं भाजपा के नेताओं से पूछना चाहता हूं कि एक नाम तो बता दें जो स्वतंत्रता सेनानी रहा हो और उनकी पार्टी में रहा हो। एक नाम नहीं बता पाएंगे और कांग्रेस को पाठ पढ़ाएंगे राष्ट्रवाद का। यह कैसी कलाकारी है, सच्चाई पहचान लेना।

सीएए पर मुख्यमंत्री बोले कि क्या जरूरत थी रात 12 बजे इस कानून को पारित कराने की, क्या देश में वॉर शुरू हो रहा था या रिफ्यूजी घुस आए थे? समारोह को गृह और जिले के प्रभारी मंत्री बाला बच्चन, स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट, कृषि, उद्यानिकी और खाद्य प्रसंस्करण मंत्री सचिन यादव और उच्च शिक्षा व खेल मंत्री जीतू पटवारी ने भी संबोधित किया।

समारोह में फसल कर्जमाफी के दूसरे चरण में राऊ विधानसभा के किसानों का 18 करोड़ रुपए का कर्ज माफ करने की घोषणा की गई। समारोह के दौरान रंगपंचमी पर निकलने वाली गेर का वीडियो भी जारी किया गया। जिला प्रशासन की पहल पर किसानों के लिए तैयार किए गए ‘शुभ-लाभ” (हर खेत की कुंडली) मोबाइल एप का लोकार्पण भी मुख्यमंत्री के हाथों कराया गया। समारोह में कलेक्टर लोकेश कुमार जाटव, कांग्रेस नेता शोभा ओझा, विधायक विशाल पटेल, जिला कांग्रेस अध्यक्ष सदाशिव यादव, शहर अध्यक्ष प्रमोद टंडन, विनय बाकलीवाल सहित कई किसान और अधिकारी मौजूद थे।

कांग्रेस में शामिल हुए भाजपा नेता यादव और पटेल, मुख्यमंत्री ने किया स्वागत

राऊ में कांग्रेस के कार्यक्रम के दौरान भाजपा नेता शंकर यादव और उस्मान पटेल मुख्यमंत्री कमल नाथ के समक्ष कांग्रेस में शामिल हुए। दोनों नेताओं का फूलमाला पहनाकर स्वागत किया गया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इन्होंने सच्चाई पहचान कर सच्चाई का साथ दिया है।

यादव ने मंच से पीड़ा व्यक्त की कि कांग्रेस में मैं निजी कारणों से नहीं कांग्रेस की नीतियों से प्रभावित होकर आया हूं। सबसे बड़ा कारण तो यह है कि मुख्यमंत्री कमल नाथ की मुहिम से इंदौर में हजारों गरीबों को प्लॉट मिले हैं, उनके घर बन जाएंगे जो 30-40 साल से भटक रहे थे। आने को लेकर निजी और मेरे भाइयों का कारण बताया जा रहा है, वह तो कानूनी मामला है, उसके बारे में नहीं बोलना चाहूंगा। मैंने लक्ष्मणसिंह गौड़ के साथ 30 साल काम किया। उनके जाने के बाद मैं 10 साल तक जिस प्रकार से प्रताड़ित किया गया, उससे मेरे सम्मान और स्वाभिमान को ठेस पहुंची है।

यादव ने राजनीति के पुराने दिनों के बारे में बताया कि 1977-78 में हम वैष्णव कॉलेज की राजनीति किया करते थे। सुदर्शन गुप्ता, लक्ष्मणसिंह और हम आमने-सामने चुनाव लड़ा करते थे। उजागरसिंह हमारे नेता थे और हम उनके साथ काम करते थे। वर्ष 1980 में हमने चार नंबर से यज्ञदत्त शर्मा को विधायक बनाया था।

इससे पहले उस्मान पटेल ने कहा कि मैं 40 साल से भाजपा में हूं, लेकिन आज सीएए और एनआरसी जैसे काले कानून लाए जा रहे हैं। यह समाज और देशहित में नहीं हैं। इसीलिए आज कांग्रेस में शामिल हो रहा हूं। भू-माफिया के खिलाफ सरकार जो कार्रवाई कर रही है, उससे प्रभावित होकर कांग्रेस में शामिल हो रहा हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *