नारी शक्ति का दम : दोगुना कर दिखाया टैक्स कलेक्शन, मध्य प्रदेश में अव्वल

भोपाल। जिसे लूप लाइन माना, उसे महिलाओं ने सबसे ज्यादा राजस्व देने वाली जगह बना दिया। भोपाल वाणिज्यिक कर संभाग के सर्किल-4 में 90 फीसद अधिकारी-कर्मचारी महिलाएं हैं, एहसास करा रही है कि महिलाएं आज कैसे हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रही हैं। मध्य प्रदेश वाणिज्यिक कर विभाग में कभी लूप लाइन माने जाने वाले सर्किल (क्षेत्र) में महिला अधिकारी और कर्मचारियों ने पांच साल में अपने सर्किल से मिलने वाले राजस्व को दोगुना कर दिया है। इस सर्किल के रेवेन्यू कलेक्शन की ग्रोथ रेट प्रदेश के औसत से भी ज्यादा है। मध्य प्रदेश के वाणिज्यिक कर विभाग के भोपाल संभाग में छह सर्किल हैं। इसी में सर्किल-4 आता है। इस सर्किल के तहत टैक्स वसूली का पूरा काम लगभग महिलाओं के हाथ में ही है।

सर्किल की कमान सर्किल हेड रक्षा दुबे चौबे संभालती हैं। उनके साथ 12 महिलाएं हैं। रक्षा बताती हैं इस सर्किल में 50 प्रकार की कमोडिटी में करीब 4093 डीलर्स हैं। कई व्यापारियों ने टैक्स नहीं भरा था। हमने टारगेट बनाया कि हर व्यापारी से संपर्क कर उन्हें टैक्स जमा करने के लिए प्रोत्साहित करना है। सर्किल में 95 फीसद व्यापारी रिटर्न भर चुके हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, 2014 में इस सर्किल से सालाना सिर्फ 610 करोड़ रुपए मिलते थे। चार साल में यह दोगुना हो गया। 2018-19 में राज्य सरकार को 1198 करोड़ रुपए से ज्यादा का राजस्व इकट्ठा करके दिया। वित्तीय वर्ष 2019-20 के नवंबर तक इस सर्किल ने 1021 करोड़ रुपए कमा लिए। नवंबर तक प्रदेश के रेवेन्यू कलेक्शन की ग्रोथ रेट 20 प्रतिशत है, जबकि सर्किल की ग्रोथ रेट 35 प्रतिशत है। जो संभवत: मप्र में सबसे ज्यादा है।

फिसड्डी को बना दिया नंबर-1

सबसे फिसड्डी रहे इस सर्किल में कोई बड़ी इंडस्ट्री नहीं होने और टैक्स जमा नहीं होने की वजह से इसे विभाग में लूप लाइन माना जाता था। विभाग में कपड़ा सर्किल के नाम से प्रसिद्ध इस सर्किल में आमतौर पर यह मानकर लोगों को भेजा जाता था कि यहां ज्यादा काम नहीं है। हालांकि अब यहां पदस्थ महिलाओं ने मिलकर हालात बदल दिए हैं और यह सर्किल पूरे भोपाल संभाग में सबसे ज्यादा राजस्व देने वाला सर्किल बन गया है। जबकि अन्य सर्किल पिछले साल के बराबर भी रेवेन्यू कलेक्शन नहीं कर पाए हैं। ये सभी महिलाएं पिछले तीन से चार सालों से यहां काम कर रही हैं।

महिला शक्ति के भरोसे बढ़ा राजस्व

सर्किल-4 की हेड रक्षा दुबे चौबे, असिस्टेंट कमिश्नर सपना पगारे, स्टेट टैक्स ऑफिसर स्वर्णलता राजपूत, इंस्पेक्टर साइमा फातिमा, रीना दुबे, तरंग श्रीवास्तव, माया वानखेड़े, सोनाली वशिष्ठ, कराधान सहायक दीपा जगवानी, सहायक ग्रेड तीन प्रेमलता श्रीवास्तव, सुनीता पंथी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *