भाजपा नेता राजगढ़ में कलेक्टर निधि निवेदिता के खिलाफ दर्ज कराएंगे एफआईआर

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय 22 जनवरी को राजगढ़ पहुंचेंगे। भाजपा नेता पुलिस थाने पहुंचकर राजगढ़ कलेक्टर निधि निवेदिता और डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा के खिलाफ मारपीट सहित अजा-अजजा उत्पीड़न अधिनियम के तहत अपराध दर्ज करवाएंगे। पार्टी नेताओं के मुताबिक, राजगढ़ कलेक्टर के रवैए को भाजपा ने गंभीरता से लिया है और अब वे इस मुद्दे पर बड़ा आंदोलन खड़ा करने की तैयारी में है। गौरतलब है कि नागरिकता कानून (सीएए) के समर्थन में जुटी भीड़ के साथ रविवार को कलेक्टर निधि निवेदिता और डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा ने मारपीट की थी। उधर, राजगढ़ में घायल भाजपा कार्यकर्ताओं से विधायक विश्वास सारंग, उषा ठाकुर और जीतू जिराती, सांसद रोडमल नागर ने मुलाकात की। इन नेताओं ने पुलिस अधीक्षक प्रदीप शर्मा को ज्ञपन सौंपकर कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा के खिलाफ अपराध दर्ज करने की मांग की। विधायक सारंग ने कलेक्टर, डिप्टी कलेक्टर द्वारा थप्पड़ मारने, लाठीचार्ज की तुलना जलियावाला बाग कांड से की।

डिप्टी कलेक्टर से छेड़छाड़ करने वाले को जेल भेजा

रैली के दौरान डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा से अभद्रता करने के मामले में उनकी शिकायत पर बोड़ा (जिला राजगढ़) निवासी भूपेंद्र ठाकुर को पुलिस ने रविवार शाम गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। ठाकुर पर छेड़छाड़ और शासकीय कार्य में बाधा की धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। इसी मामले में एक अन्य अब तक अज्ञात है। कलेक्टर ने सोमवार शाम तक कोई मामला दर्ज नहीं कराया। वहीं ब्यावरा में धारा 144 लागू रही और पुलिस ने लोगों को जमा नहीं होने दिया। पुलिस बल शहर में तैनात रहा। जिला मुख्यालय राजगढ़ में स्थिति सामान्य रही।

कोर्ट भी जाएंगे : शिवराज सिंह चौहान

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हम राजगढ़ कलेक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाएंगे। पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की तो कोर्ट जाएंगे। मीडिया के साथ बातचीत में चौहान बोले कि कलेक्टर भारत माता की जय बोलने और हाथ में तिरंगा रखने पर थप्पड़ मार रही हैं। हम ये बर्दाश्त नहीं करेंगे। क्या मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ऐसे आदेश दिए हैं।

कलेक्टर को तत्काल हटाएं : राकेश सिंह

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व सांसद राकेश सिंह ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों को घसीटा जाता है। जिले की कलेक्टर खुद गली के गुंडों की तरह लोगों को कॉलर पकड़कर झंझोड़ती हैं, लोगों को सड़क पर धक्के मारकर गिराया जाता है और उनसे मारपीट की जाती है। प्रशासन की ऐसी निरंकुशता और गुंडागर्दी अंग्रेजी शासन के समय की याद दिलाती है। मुख्यमंत्री कमलनाथ को प्रदेश की जनता के सामने यह स्पष्ट करना चाहिए कि क्या प्रशासन उन्हीं के इशारे पर ऐसी बर्बरता दिखा रहा है। अगर ऐसा नहीं है तो मुख्यमंत्री तत्काल लोकतंत्र पर प्राणघातक हमला करने वाली कलेक्टर को हटाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *