स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री तुलसी सिलावट ने आयुष्मान योजना के प्रचार-प्रसार में खर्च की गई करोड़ों की राशि का हिसाब मांगा है

भोपाल. आयुष्मान योजना के प्रचार-प्रसार के लिए मध्य प्रदेश में करोड़ों रुपए की राशि खर्च की गई थी और इसका मकसद जन जन तक इस योजना को पहुंचाना था. अब इसी खर्च की गई राशि का ब्यौरा सरकार ने अधिकारियों से मांगा है. मध्‍य प्रदेश के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री तुलसी सिलावट (Health Minister Tulsi Silawat) ने शिविरों में खर्च हुई करोड़ों रुपए की राशि को लेकर अधिकारियों को नोटिस देकर हिसाब किताब मांगा है, जिसके लिए एक सप्‍ताह का समय दिया गया है.
सीएमएचओ से मांगा खर्च का ब्‍यौरा
हाल ही में आयुष्मान योजना के प्रचार-प्रसार के लिए आयुष्मान पखवाड़ा मनाया गया था. पखवा़ड़े के तहत शिविरों के आयोजन पर डेढ़ करोड़ की राशि खर्च की गई थी. इसका ब्यौरा अब तक नहीं दिया गया है. ऐसे में आयुष्मान पखवाड़े में खर्च की गई राशि का हिसाब सभी सीएमएचओ से मांगा गया है. इसके लिए प्रदेशभर के सभी सीएमएचओ को स्वास्थ्य विभाग ने नोटिस जारी किए हैं.
हाल ही में आयुष्मान योजना के प्रचार-प्रसार के लिए आयुष्मान पखवाड़ा मनाया गया था. पखवा़ड़े के तहत शिविरों के आयोजन पर डेढ़ करोड़ की राशि खर्च की गई थी. इसका ब्यौरा अब तक नहीं दिया गया है. ऐसे में आयुष्मान पखवाड़े में खर्च की गई राशि का हिसाब सभी सीएमएचओ से मांगा गया है. इसके लिए प्रदेशभर के सभी सीएमएचओ को स्वास्थ्य विभाग ने नोटिस जारी किए हैं.

जन-जन तक पहुंचाने के लिए लगाए गए थे शिविर
आयुष्मान योजना के तहत 5 लाख तक के फ्री इलाज सुविधा है. इस योजना में उन्हीं मरीजों का निशुल्क इलाज किया जाएगा, जिन्होंने इसमें पंजीयन कराया है. जबकि आम आदमी तक इस योजना के तहत मिलने वाले निशुल्क इलाज के प्रचार-प्रसार के लिए ही सरकार की तरफ से शिविर लगाए गए थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *