सब्सिडी में उलझाकर 6 महीने में 62 रूपए बढ़ा दिए रसोई गैस के दाम

जुलाई में 508 रूपए में मिलने वाला सिलेण्डर दिसंबर में पड़ा 570 का
बैतूल। घरेलू गैस सप्लाई करने वाली गैस एजेंसियों ने सब्सिडी कम ज्यादा करने में उलझाकर पिछले छह महीने में ही घरेलू रसोई गैस सिलेण्डर के दाम 62 रूपए बढ़ा दिए। जुलाई माह से सिलेण्डर के दाम बढ़ाने का सिलसिला शुरू हुआ जो दिसंबर तक जारी है। कंपनी द्वारा अगस्त माह में 31 रूपए, सितंबर में 11 रूपए, अक्टूबर में 7 रूपए, नंवबर में 8 रूपए और दिसंबर में 5 रूपए बढ़ाकर कुल 62 रूपए बढ़ा दिए है। जुलाई माह में सब्सिडी काटकर उपभोक्ताओं को 508.40 रूपए में मिलने वाला गैस सिलेण्डर दिसंबर माह में 570.10 रूपए में पड़ रहा है। गैस सिलेण्डर की कीमत बढऩे से गरीबों का बजट गड़बड़ा गया है।
2015 से शुरू हुई थी डीबीटीएल
केन्द्र सरकार द्वारा वर्ष 2015 के पूर्व उपभोक्ताओं को घरेलू रसोई गैस सिलेण्डर केन्द्र सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी काटकर दी जाती थी। जिससे गैस की कालाबाजारी होने लगी थी। घरेलू गैस का व्यवसायिक उपयोग होने से 1 जनवरी 2015 से सरकार द्वारा डीबीटीएल (डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांस्फर फॉर एलपीजी) योजना शुरू की गई। इस योजना के शुरू होने के बाद चारो पेट्रोलियम कंपनी उपभोक्ताओं से बाजार मूल्य से घरेलू सिलेण्डर की राशि लेती है और सब्सिडी की राशि ग्राहको के बैंक खाते में जमा करती है। ताकि रसोई गैस का अन्य उपयोग न हो और कालाबाजारी पर रोक लग सके। सरकार द्वारा प्रत्येक उपभोक्ता के लिए प्रतिवर्ष अधिकतम 12 रसोई गैस सिलेण्डर पर सब्सिडी दी जाती है। 12 सिलेण्डर से अधिक होने पर सब्सिडी की राशि नहीं मिलती है।
प्रतिमाह बदलती है सब्सिडी की राशि
गैस कंपनी द्वारा सब्सिडी की राशि प्रतिमाह कम ज्यादा की जाती है। जिससे सिलेण्डर की कीमत भी प्रतिमाह बदलती है। इस साल जनवरी में गैस सिलेण्डर की कीमत 715.99 रूपए थी वहीं सब्सिडी की राशि 209.24 रूपए उपभोक्ता के खाते में वापस आ गई जिससे उपभोक्ताओं को रसोई गैस सिलेण्डर 506.75 रूपए में पड़ रहा था। जुलाई माह तक सिलेण्डर की राशि और सब्सिडी की राशि कम ज्यादा होते रही लेकिन जिस मात्रा में राशि कम ज्यादा हो रही थी उसी मात्रा में सब्सिडी की राशि भी कम ज्यादा हो रही थी जिससे जुलाई माह तक उपभोक्ताओं को घरेलू रसोई गैस सिलेण्डर 508 रूपए में ही पड़ रहा था।
जुलाई के बाद प्रतिमाह बढ़े दाम
जुलाई माह में 662 रूपए में मिलने वाले गैस सिलेण्डर की कीमत अगस्त माह में 63 रूपए कम करके 599.50 रूपए कर दी। लेकिन कंपनी द्वारा सब्सिडी 153 रूपए से कम कर 60 रूपए कर दी। जिससे जुलाई माह में 508 रूपए में पडऩे वाला सिलेण्डर अगस्त माह में 539 रूपए में पडऩे लगा। सितंबर माह में सब्सिडी की राशि 4 रूपए बढ़ाकर 64 रूपए कर दी वहीं सिलेण्डर की कीमत 15 रूपए बढ़ा दी। अक्टूबर में भी सब्सिडी की राशि 9 रूपए बढ़ाकर सिलेण्डर की कीमत 16 रूपए बढ़ा दी। नवंबर में सब्सिडी की राशि 70 रूपए बढ़ाकर सिलेण्डर की कीमत 78 रूपए और दिसंबर में सब्सिडी की राशि 8 रूपए बढ़ाकर सिलेण्डर की राशि 13 रूपए बढ़ा दी। पिछले छह महीने में ही सिलेण्डर की कीमत 62 रूपए बढ़कर 508 रूपए से 570 रूपए हो गई। जिसकी मार गरीबों पर पड़ रही है। पिछले छह माह से गैस सिलेण्डर के दाम प्रतिमाह बढऩे से अगले माह भी सिलेण्डर के दाम बढऩे की संभावना लग रही है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *