भोपाल के पुराने इलाकों में प्रदर्शन के बाद कई घंटे बंद रही इंटरनेट सेवा

भोपाल। नागरिक संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में शांतिपूर्ण तरीके से शुक्रवार को प्रदर्शन हुआ। इस प्रदर्शन के कारण ज्यादातर स्कूलों ने बच्चों की जल्दी छुट्टी कर दी थी। पुराने शहर में प्रदर्शन स्थल के आसपास दिनभर बाजार बंद रहे। जुमे की नमाज के बाद लोग इकबाल मैदान की तरफ बढ़ना चाह रहे थे, लेकिन पुलिस और प्रशासन ने उन्हें रोक दिया था। इसके बाद लोगों ने सड़क पर ही सभा की। दोपहर से देर शाम तक कई घंटे तक इंटरनेट सेवा बाधित रही। जानकारी के अनुसार जमीअत उलेमा-ए-हिंद ने शुक्रवार को एनआरसी व सीएए के विरोध में प्रदर्शन रखा था। इसके मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था के लिए कलेक्टर तरुण पिथोड़े और डीआईजी इरशाद वली ने सुबह 11 बजे से मौका मुआयना शुरू कर दिया था। पुलिस की टीम सुबह से किसी को भी इकबाल मैदान पर खड़े तक नहीं होने दे रही थी। दोपहर दो बजे तक सैकड़ों की संख्या में अलग स्थानों से लोगों ने पहुंचना शुरू कर दिया था। धीरे-धीरे भीड़ बहुत बढ़ गई। यहां शांतिपूर्ण तरीके से लोगों ने एनआरसी व सीएए के खिलाफ प्रदर्शन किया। इस दौरान एक आमसभा का आयोजन किया गया। जहां लोगों ने अपने विचार रखे।
विरोध में रैली निकाली : सीएए और एनआरसी के विरोध में लोगों ने एक ही स्थान पर खड़े होकर नारेबाजी की। इस दौरान किसी भी प्रकार की कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। लोगों ने शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन किया।
जल्दी बंद किए स्कूल : प्रदर्शन के मद्देनजर एहतियात के तौर पर शहर के कई स्कूलों ने जल्दी छुट्टी कर दी। अभिभावकों को एक घंटे पहले मैसेज भेजकर इसकी जानकारी दी गई।
नए शहर के बाजारों में रहा सन्नाटा : पुराने शहर में प्रदर्शन के कारण नए शहर में अधिकांश बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। मार्केट आने वाले लोगों ने इसके बारे में जानकारी ली तो दुकानदारों ने उनको बताया कि पुराने शहर में प्रदर्शन है। हालांकि शाम होते-होते बाजार पुरी तरह से खुल गए।
मैसेज पर लगाई रोक : प्रशासन के निर्देश पर मोबाइल कंपनियों ने दोपहर में इंटरनेट सेवा बंद कर दी। करीब छह घंटे इंटरनेट सेवा बंद रही, बाद में इसे बहाल कर दिया गया, लेकिन सेवाएं सुचारू रूप से शुरू होने में काफी वक्त लग गया।
अफवाहों का बाजार रहा गर्म : शुक्रवार सुबह से ही शहर में अफवाहों का बाजार गर्म रहा। तरह-तरह की अनहोनी की सूचना सुबह से आना शुरू हो गई थी। इसके बाद डीआईजी इरशाद वली को अपनी ओर से एक सोशल मीडिया संदेश जारी करवाना पड़ा। इसमें लिखा था कि लोगों को भयभीत होने की जरूरत नहीं है। पुराने शहर में किसी भी स्थान पर कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है। कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा अफवाह फैलाई गई है। उस पर ध्यान न दें।
आज रहेगी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था : शनिवार को भी शहर के सभी धार्मिक स्थलों पर पुलिस की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। प्रशासन की तरफ से स्कूल-कॉलेजों की छुट्टी घोषित नहीं की गई है। स्कूल प्रबंधन अपने स्तर पर फैसला कर सकते हैं।
फूड डिलीवरी और कैब भी ठप्प रही
इंटरनेट सेवाएं बंद होने के कारण राजधानी के लोगों को जमकर परेशानी का सामना करना पड़ा। लोग पीओएस के जरिए भुगतान भी नहीं कर सके। इसी तरह खाने-पीने के लिए ऑनलाइन ऑर्डर भी नहीं हो सके। इसके अलावा मोबाइल एप बेस्ड कैब सर्विस भी प्रभावित रही। इस वजह से लोगों को लो फ्लोर बसों का भी सहारा लेना पड़ा।
10 वॉच टॉवर से रखी निगरानी, घर की छतों पर भी प्रदर्शन

  • इकबाल मैदान में अंदर जाने का प्रयास कर रहे एडीएम जीपी भारतीय फिसलकर गिर गए थे। उन्हें पुलिस के जवानों ने उठाया।
  • 10 वॉच टावरों से प्रदर्शन पर निगरानी रखी गई। यह टॉवर नवाबकाल की पुरानी बिल्डिंग पर बनाए गए थे।
  • लोगों ने अपने घरों की छतों पर चढ़कर भी प्रदर्शन किया। पुलिस अधिकारियों ने भी इन छतों से उन पर निगरानी रखी।
    शहर में धारा 144 लागू
    शहर में धारा 144 लगाई गई है। वहीं सोशल मीडिया पर भी निगरानी रखी जा रही है। भोपाल में प्रदर्शन जरूर हुआ, लेकिन अधिकारियों के सामंजस्य और लोगों के सपोर्ट से शांतिपूर्ण माहौल रहा। कहीं कोई स्थिति नहीं बिगड़ी। हालांकि आगामी तीन दिनों तक मॉनीटरिंग की जाएगी। शाम 7 बजे से इंटरनेट सेवाएं बहाल कर दी गई थीं। -तरुण पिथोड़े कलेक्टर, भोपाल
    अफवाह की जानकारी इस नंबर पर दें
    पुलिस ने फोन नंबर 7049106300 जारी किया है। इस नंबर पर पुलिस को अफवाहों के बारे में या अन्य जानकारी दी जा सकती है।
    इकबाल मैदान में प्रदर्शन, केस दर्ज
    शहर में धारा-144 प्रभावशील होने के बाद भी गुरुवार दोपहर कई लोग इकबाल मैदान में इकट्ठे हुए थे और सभा की। पुलिस ने अज्ञात करीब 300 लोगों के खिलाफ शासन के आदेश का उल्लंघन करने का केस दर्ज कर लिया है। तलैया पुलिस के मुताबिक नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में गुरुवार दोपहर करीब 3ः30 बजे कई लोग इकबाल मैदान में इकट्ठे हुए थे। वहां उन्होंने सभा की थी। इस तरह पूरे शहर में प्रभावशील धारा-144 का उल्लंघन किया गया। पुलिस ने अज्ञात करीब 300 लोगों के खिलाफ धारा-188 के तहत केस दर्ज कर लिया है। सभी की वीडियो रिकार्डिंग के आधार पर पुलिस आरोपितों की तलाश कर रही है।
    नागरिक संशोधन कानून के पक्ष और विपक्ष में वकीलों ने किया प्रदर्शन
    नागरिकता संशोधन कानून के पक्ष और विपक्ष में जिला अदालत में अधिवक्ताओं ने भी शुक्रवार को प्रदर्शन किया। पक्ष में प्रदर्शन करने वालों में भाजपा विधि प्रकोष्ठ के अधिवक्ता शामिल थे। इनमें अधिवक्ता संतोष शर्मा, देवेन्द्र सिंह रावत, रवि गोयल और प्रमोद सक्सेना शामिल हुए। जबकि कांग्रेस विधि प्रकोष्ठ की ओर से कानून के विपक्ष में किए गए प्रदर्शन में साजिद अली, विजय चौधरी, दीप चंद यादव और राजेन्द्र बब्बर शामिल हुए। दोनों प्रकोष्ठों की ओर से हुए प्रदर्शन में नारेबाजी भी की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *