अभी भी नहीं लगाया फास्टैग तो क्या होगा? आपके हर सवाल का जवाब

नई दिल्ली। फास्टैग अब सभी वाहनों के लिए जरूरी हो गया है। 15 दिसंबर से देश के सभी हाइवे पर टोल से गुजरने पर इसकी जरूरत होती है। हालांकि अभी भी लाखों ऐसे वाहन हैं जिस पर फास्टैग नहीं लगे हैं। ऐसे में सरकार ने फास्टैग लगाने की तारीख को एक महीना बढ़ाकर 15 जनवरी कर दिया है। अब तक करीब 1 करोड़ फास्टैग जारी किए जा चुके हैं। फास्टैग कैसे मिलेगा, इसे कैसे रिचार्ज करना है जैसे सवाल अभी भी बने हुए हैं। आइए इन सवालों का जवाब जानते हैं।

कैसे मिलेगा फास्टैग?
ऑनलाइन यह बैंक की वेबसाइट, ऐमजॉन, फ्लिपकार्ट, पेटीएम मॉल पर उपलब्ध है। ऑफलाइन यह पॉइंट ऑफ सेल (POS) पर मिलता है। टोल के आसपास और बैंक की तरफ से ऑफलाइन सेंटर बनाए गए हैं, जहां यह उपलब्ध है। इसके अलावा NHAI ऑफिस और कुछ पेट्रोल पंप से भी फास्टैग खरीदे जा सकते हैं।

क्या डॉक्युमेंट जरूरी है?
फास्टैग एक प्रिपेड रिचार्जेबल टैग होता है जो एक अकाउंट से लिंक होता है। इसलिए केवाईसी जरूरी होता है। इसके लिए वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC), आईडी प्रूफ और फास्टैग ऐप्लिकेशन फॉर्म जमा करना पड़ता है।

फास्टैग लाने का मकसद यह है कि वाहन चालकों को टोल पर लंबी कतारों में ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़े। पेमेंट ऑनलाइन RFID की मदद से होता है। हर फास्टैग का एक यूनीक नंबर होता है जिसे आप अपने बैंक अकाउंट, मोबाइल वॉलिट और क्रेडट कार्ड से लिंक कर सकते हैं। टोल से गुजरने पर टोल की राशि खुद-ब-खुद कट जाएगी।

एक फास्टैग की कितनी कीमत होती है?
वैसे एक फास्टैग की कीमत 100 रुपये है, लेकिन अभी यह मुफ्त में मिल रहा है। हालांकि 200 रुपये सिक्यॉरिटी के रूप में जमा करने पड़ते हैं। कम से कम इसे 200 रुपये से रिचार्ज करवाया जा सकता है।

कैसे रिचार्ज करवाना है?
जिस बैंक ने फास्टैग जारी किया है उसने रिचार्ज की सुविधा भी दी है। पेमेंट चेक, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, नेफ्ट, आरटीजीएस और यूपीआई की मदद से किया जा सकता है। अगर आपने NHAI से फास्टैग लिया है तो माय फास्टैग एप डाउनलोड कर सकते हैं। यहां अपने फास्टैग को बैंक अकाउंट या वॉलिट से लिंक किया जा सकता है।

वैलिडिटी कितनी होती है?
फास्टैग की वैलिडिटी अनलिमिटेड है। इसका बैलेंस कभी लैप्स नहीं करता है और बचा हुआ बैलेंस अगले रिचार्ज में जुड़ जाता है।

क्या पुराने फास्टैग काम करते रहेंगे?
2017 के बाद से सभी नए वाहनों में यह पहले से लगा होता था। अभी भी ये फास्टैग काम कर रहे हैं। अगर टैग इससे भी पुराना है तो नए से इसे रिप्लेस किया जा सकता है। ज्यादा जानकारी के लिए NHAI के टोल फ्री नंबर 1033 पर कॉल कर सकते हैं।

टोल टैक्स की जानकारी कैसे मिलेगी?
टोल से गुजरने पर रजिस्टर्ड नंबर पर मैसेज आ जाएगा जिसमें टोल डिडक्शन की जानकारी होती है। लॉन्ग रूट पर जाने से पहले अगर आपको यह डर सता रहा है कि आपके टैग में पर्याप्त बैलेंस नहीं है तो जारी करने वाले बैंक या NHAI को संपर्क किया जा सकता है। वह आपकी मदद के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

बैंक प्रोवाइडर बदले जा सकते हैं?
फिलहाल बैंक प्रोवाइडर बदलने की सुविधा उपलब्ध नहीं है। आप अगर बैंक बदलना चाहते हैं तो पहले पुराने टैग को सरेंडर करना होगा और नया टैग जारी करवाना होगा। कार अगर आपकी पत्नी के नाम पर है तो आरसी बुक पर उनका नाम होगा। वेरिफिकेशन के बाद आप अपना नंबर रजिस्टर करवा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *