मोहन नागर को मिला जलप्रहरी सम्मान, केन्द्रीय मंत्री ने किया सम्मानित

बैतूल के जल संरक्षण के अगुआ मोहन नागर को केन्द्रीय जलशक्ति मन्त्री ने दिल्ली में किया सम्मानित
बैतूल। बैतूल जिले में जल संरक्षण हेतु चलाये जा रहे गंगावतरण अभियान को भारत सरकार के जल शक्ति मन्त्रालय द्वारा जलप्रहरीसम्मान से सम्मानित किया गया है। अभियान के संयोजक मोहन नागर को यह पुरस्कार केन्द्रीय जल शक्ति मन्त्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत व अन्य अतिथियों द्वारा बुधवार को नई दिल्ली में आयोजित जल प्रहरी सम्मान समारोह- 2019 के गरिमामय कार्यक्रम में प्रदान किया गया। नई दिल्ली के कांस्टियूशन क्लब में बुधवार रात्रि को आयोजित इस समारोह में देश भर के 41 व्यक्तियों को जल संरक्षण के क्षेत्र में जलप्रहरी सम्मान से सम्मानित किया गया।

यह समाचार प्राप्त होते ही बैतूल जिले में जल संरक्षण अभियान से जुड़े कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर दौड़ गई है। अनेक सामाजिक, सांस्कृतिक, शैक्षणिक व पर्यावरण के लिए काम करने वाली संस्थाओं के कार्यकर्ताओं ने यह पुरस्कार बैतूल को मिलने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। बैतूल के सांसद श्री दुर्गादास उइके ने समारोह में पहुँचकर मोहन नागर और बैतूल जिले में जल संरक्षण अभियान में जुटे सभी कार्यकर्ताओं को व देश भर के जल प्रहरी सम्मान से सम्मानित लोगों को बधाईयाँ दी।

समारोह में मुख्य अतिथि केन्द्रीय मन्त्री श्री गजेन्द्र शेखावत के साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह संपर्क प्रमुख श्री रामलाल, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री श्याम जाजू, सांसद व भाजपा दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष श्री मनोज तिवारी, मैग्सेसे पुरस्कार प्राप्त जल पुरुष श्री राजेन्द्र सिंह, सचिव जल शक्ति मंत्रालय श्री यूपी सिंह, आयोजन समिति प्रमुख श्री अमिय साठे ने जल संरक्षण के लिए देश भर में काम कर रहे व्यक्तियों को सम्मानित किया। समारोह में बैतूल की सोनाघाटी पर वर्षाजल संरक्षण के लिए किये जा रहे गंगावतरण अभियान व जिले के ग्राम-ग्राम में जल महोत्सव के अन्तर्गत किये जा रहे बोरीबंधान की सराहना की गई। इस अवसर पर प्रकाशित स्मारिका में बैतूल के जल संरक्षण अभियान को दो पेज में स्थान दिया गया है।

यह सम्मान पाने वालों में उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब, उत्तराखंड, दिल्ली, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, हरियाणा, झारखण्ड आदि राज्यों के 41 व्यक्ति/संजथाओं को जल प्रहरी सम्मान से सम्मानित हुए। प्रमुख रूप से श्यामसुन्दर पालीवाल राजस्थान, श्री मथुरा भाई गुजरात, श्री हीरालाल आईएएस डीएम बांदा उत्तरप्रदेश, श्री नितिन बाग़मोढे आईआरएस मुंबई, श्री उमाशंकर पाण्डे, बुन्देलखण्ड, श्री अभय रावल अहमदाबाद गुजरात, श्री धीरेन्द्र सचान आईएएस लखनऊ, श्री शांतिलाल मुथा पुणे महाराष्ट्र, डॉ कृष्ण पाल बागपत उप्र, श्री महेंद्र मोदी आईपीएस लखनऊ, डॉ राजेन्द्र पोद्दार, कर्नाटक, स्वामी मदनगोपाल दास चित्रकूट, श्रीमती डॉ आशा माकड़े छत्तीसगढ़, डॉ वसंथा लक्ष्मी आंध्रप्रदेश, श्री विनोद मेलाना भीलवाड़ा राजस्थान आदि के साथ एनएचपीसी हरियाणा, एनएलसी इण्डिया, तमिलनाडु, ब्रह्मकुमारी माउन्ट आबू, जिला प्रशासन रांची आदि संस्थाओं के प्रतिनिधियों को जल प्रहरी सम्मान दिया गया। सम्मान में सभी को शाल, शील्ड और प्रमाणपत्र प्रदान किया गया।
इस अवसर पर जलशक्ति मन्त्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने सम्बोधित करते हुए कहा कि जल संरक्षण के लिए देश भर में काम करने वाले व्यक्तियों का सम्मान जन शक्ति को जल शक्ति से जोड़ना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 30 जून को आकाशवाणी से की गई मन की बात और 15 अगस्त को लाल किले से जल संरक्षण के लिए देशवासियों से किये गए आह्वान से स्वच्छता की ही तरह जन-जन में जल संरक्षण के प्रति जागरूकता आई है। श्री शेखावत ने कहा कि केन्द्र सरकार जल प्रहरियों के सम्मान के साथ उनके सुझावों पर भी अमल करेगी। इस अवसर पर श्री राजेन्द्र सिंह ने कहा कि हमने प्रकृति के पंच महाभूत को ही भगवान माना हैं। भारत मे नदी और नारी को आज भी सम्मान प्राप्त है। श्री रामलाल, श्री मनोज तिवारी, श्री श्याम जाजू, श्री अमिय साठे, श्री यूपी सिंह ने भी सम्बोधित किया।

गंगावतरण अभियान के संयोजक मोहन नागर ने इसे बैतूल के लोगों की एक बड़ी उपलब्धि बताया। उन्होंने इस सम्मान को जल संरक्षण अभियान से जुड़े कार्यकर्ताओं समर्पित किया। यह सम्मान प्राप्त होने से बैतूल जिले में जल और पर्यावरण संरक्षण के कार्यों को गति मिलेगी तथा अन्य जिलों में भी लोग इसका अनुसरण करेंगे। श्री नागर ने कहा कि शीघ्र ही एक समारोह आयोजित कर अभियान से जुड़े सभी कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *