मुफ्त के फास्टैग तो आए, लेकिन हाथोहाथ हो रहे खत्म

इंदौर। केंद्र सरकार द्वारा 1 दिसंबर के बाद सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर फास्टैग से टोल टैक्स वसूली करने के फरमान के बाद टोल प्लाजा पर फास्टैग की मांग बढ़ने लगी है। इंदौर के आसपास सात टोल प्लाजा पर फ्री के फास्टैग उपलब्ध हो गए हैं लेकिन वे हाथोहाथ खत्म हो रहे हैं। इधर, मांग लगातार बनी हुई है। एनएचएआई अफसरों ने स्पष्ट किया है कि फ्री फास्टैग केवल एनएचएआई देगी। यदि कोई वाहन चालक बैंक से फास्टैग लेता है तो उसे सुरक्षा राशि देनी होगी। एनएचएआई ने फास्टैग ऑनलाइन उपलब्ध कराया है, लेकिन वहां भी वेटिंग होने से डिलीवरी में देरी की संभावना जताई जा रही है।

‘माय फास्टैग’ ऐप डाउनलोड करें

अफसरों का कहना है कि लोग ‘माय फास्टैग ऐप डाउनलोड कर बैंकों और एनएचएआई के जरिए दिए जाने वाले फास्टैग को लेकर तमाम जानकारी ले सकते हैं। इससे फास्टैग के लिए ऑनलाइन ऑर्डर भी दे सकते हैं। यह सुविधा पेटीएम पर भी उपलब्ध कराई गई है। हालांकि अत्यधिक ऑर्डर के कारण वर्तमान में वेटिंग है। इंदौर बायपास और पुराने एबी रोड (मांगलिया) पर बने एक-एक टोल प्लाजा के अलावा इंदौर-अहमदाबाद हाईवे के दो और इंदौर-खलघाट फोर लेन के तीन टोल प्लाजा पर फास्टैग उपलब्ध कराए जा रहे हैं। फास्टैग उपलब्ध कराने के लिए एनएचएआई ने अन्य इकाइयों के साथ इंदौर इकाई के लिए एक एजेंसी नियुक्त की है जो रोज टोल प्लाजा पर फास्टैग उपलब्ध करवा रही है। हालांकि सबकुछ इतनी जल्दबाजी में हो रहा है कि अफसरों के साथ टोल टैक्स वसूलने वाली एजेंसियों को भी कई बातें स्पष्ट नहीं हैं।
नकद वालों को लगेगा दोगुना टैक्स : केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने घोषणा की थी कि 1 दिसंबर के बाद एनएचएआई के सभी टोल प्लाजा पर केवल आने-जाने वाली रोड पर एक-एक लेन नकद टोल टैक्स भुगतान के लिए रहेगी। इसमें लोगों को दोगुना टैक्स देना होगा। इसके अलावा सभी लेन पर इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन होगा। अभी ज्यादातर टोल प्लाजा पर दोनों तरफ के वाहनों के लिए एक-एक ही ईटीसी लेन है।
आरटीओ से भी ले सकते हैं : एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर मनीष असाटी बताते हैं कि हर रोज लोग टोल प्लाजा पर फास्टैग लेने पहुंच रहे हैं। जैसे-जैसे लोगों को जानकारी मिल रही है, वैसे-वैसे यह संख्या रोज बढ़ रही है। फास्टैग डे-टू-डे आधार पर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। एजेंसी को कहा गया है कि जहां भी फास्टैग की कमी हो रही है, वह तुरंत व्यवस्था करे। मंत्री के निर्देश पर एनएचएआई द्वारा 1 दिसंबर तक मुफ्त फास्टैग उपलब्ध कराए जा रहे हैं, जबकि बैंकों से मिलने वाले फास्टैग चार्जेबल हैं। माय फास्टैग एप के अलावा पेटीएम और आरटीओ पर भी फास्टैग उपलब्ध कराए गए हैं।
आरएफआईडी को लेकर भी स्थिति साफ नहीं : जिन गाड़ियों में आरएफआईडी लगा हुआ है, उनके बारे में अभी स्थिति साफ नहीं है। हालांकि इंदौर-देवास टोलवेट कंपनी के टीम लीडर अजय पांडे ने बताया कि ऐसे वाहन चालकों को टोल प्लाजा पहुंचकर एजेंसी प्रतिनिधियों से जानकारी लेनी चाहिए कि उनके आरएफआईडी एक्टिवेट किए जाएंगे या उन्हें नए सिरे से फास्टैग लेकर उसे चार्ज कराना होगा। जिन लोगों के वाहनों में आरएफआईडी लगा है, उनके समक्ष यह संशय है कि वे उसे एक्टिवेट या रिचार्ज कैसे कराएं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *