35 लाख बिल बकाया होने पर जोन ऑफिस की बिजली काटी, बदले में निगम ने थमाया ऐसा नोटिस

भोपाल। नगर निगम की तंगहाल स्थिति के कारण बिजली बिलों तक का भुगतान नहीं हो पा रहा है। लिहाजा बिजली कंपनी ने बुधवार को बैरागढ़ जोन क्रमांक 1 के कार्यालय की बिजली सप्लाई लाइन ही काट दी। इसके बाद दोनों ही एजेंसियों के बीच विवाद शुरू हो गया है। निगम अधिकारियों ने बताया कि बिजली कंपनी पर नगर निगम का करीब 40 करोड़ रुपए बकाया है। लिहाजा 35 लाख रुपए बिजली बिल की बकाया राशि पर ऐसी कार्रवाई करना गलत है। बिजली कंपनी ने जोन कार्यालय समेत वार्ड कार्यालय व बैरागढ़ फायर स्टेशन की भी बिजली काट दी है।
जोन कार्यालय की बिजली कटने से नाराज नगर निगम ने भी बिजली कंपनी पर पलटवार करते हुए बकाया वसूली की तैयारियां शुरू कर दी हैं। नगर निगम प्रशासन ने सभी जोन अधिकारियों से बिजली कंपनी से वसूली के लिए निर्देश भी दे दिए हैं। पहले निगम नोटिस देकर बकाया राशि की वसूली के लिए नोटिस जारी करेगा। साथ ही बिजली कंपनी को 1 हफ्ते का समय भी दिया जाएगा। यदि निगम को बकाया राशि जमा नहीं की गई तो कंपनी पर संपत्ति कुर्की की कार्रवाई की जाएगी।

चार माह से जमा नहीं किया था बिल, आश्वासन पर जोड़ी लाइन

बीते चार माह से निगम के जोन क्रमांक-1 ने बिजली का बिल जमा नहीं किया था। निगम अधिकारियों ने बताया कि बिल राशि वसूली के लिए भी बिजली कंपनी ने किसी भी प्रकार का पत्रचार नहीं किया। अचानक कंपनी ने बुधवार दोपहर 11.30 बजे बिजली लाइन काट दी। इसकी जोन अधिकारियों ने इसकी जानकारी निगम के वरिष्ठ अधिकारियों को दी। तत्काल कंपनी के अधिकारियों से संपर्क साधा गया। निगम ने गुरुवार तक बिजली बिल भुगतान का आश्वासन दिया। इसके बाद भी कंपनी ने साढ़े पांच घंटे बाद शाम 5 बजे सप्लाई शुरू की। इस दौरान निगम द्वारा कंपनी के अधिकारियों से कई बार संपर्क भी किया गया।

निगम का दावा : प्रॉपर्टी टैक्स व ग्राउंड रेंट के 40 करोड़ बिजली कंपनी पर बकाया

निगम अधिकारियों का दावा है कि सालों से बिजली कंपनी ने प्रॉपर्टी टैक्स व ग्राउंड रेंट जमा नहीं किया है। दोनों ही मदों में निगम को बिजली कंपनी से करीब 40 करोड़ की राशि वसूल करनी है। ग्राउंड रेंट निगम की जमीन पर लगे बिजली ट्रांसफामर्स के लिए वसूला जाता है। नगर निगम हर वित्तीय वर्ष के अंत में बिजली कंपनी को नोटिस थमाने की कार्रवाई भी करता है।

निगम पर बिजली कंपनी का 32 करोड़ बकाया

बिजली कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि नगर निगम पर करीब 32 करोड़ रुपए का बिजली बिल बकाया है। बीते अप्रैल से नगर निगम द्वारा बिजली कंपनी को भुगतान नहीं किया है। शहर में निगम दफ्तरों, अलग-अलग प्लांटों, पंप हाउस को मिलाकर करीब पांच से छह करोड़ रुपए बिजली का बिल नगर निगम का बनता है। अधिकारियों का दावा है कि प्रदेश में नगरीय निकायों में सिर्फ भोपाल नगर निगम ही भुगतान करने में देरी करती है।

बिजली कंपनी पर नगर निगम का करोड़ों रुपए बकाया है। बिजली कंपनी द्वारा ऐसी कार्रवाई करना ठीक नहीं है। बिजली कंपनी पर बकाया राशि की गणना का निर्देश दिया है। निगम भी नियमों के तहत बकाया वसूली के लिए कार्रवाई करेगा।

-रणवीर सिंह, अपर आयुक्त, नगर निगम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *