दिवाली से चार दिन पहले खरीदी का महामुहूर्त, ये वस्‍तुएं खरीदना होगा शुभ

इंदौर। दीपावली के चार दिन पहले खरीदी का महामुहूर्त पुष्य नक्षत्र 21 और 22 अक्टूबर को होगा। इस वर्ष सोना, चांदी, बर्तन, जमीन, मकान की खरीदी के लिए पुष्य नक्षत्र 23 घंटे सात मिनट रहेगा। 21 को जहां सोमवार रहने से सोम पुष्य और 22 को मंगलवार रहने से भौम पुष्य का संयोग बनेगा। ज्योतिर्विदों के मुताबिक पहले दिन सोना, चांदी, बर्तन, वाहन आदि की खरीदी अधिक मंगलकारी, जबकि मंगलवार को भौम पुष्य नक्षत्र होने से मकान, दुकान, जमीन और स्थायी संपत्ति की खरीदी अधिक हितकारी मानी गई है। पुष्य नक्षत्र की शुरुआत 21 अक्टूबर को शाम 5.31 बजे से होगी, जो अगले दिन 22 अक्टूबर को शाम 4.38 बजे तक रहेगा। दोनों दिन इसके साथ ही विभिन्न शुभ संयोग भी रहेंगे। 22 अक्टूबर को सुबह 10.55 बजे तक साध्य और इसके बाद शुभ योग लग जाएगा।
ज्योतिर्विद विजय अड़ीचवाल के अनुसार दीपावली से पहले आने वाले पुष्य नक्षत्र में त्योहारी खरीदी शुभ बताई गई है, इसलिए लोग पुष्य नक्षत्र का इंतजार करते हैं। खासकर महंगी खरीदी इस नक्षत्र में की जाती है। इस नक्षत्र में गाड़ी, मकान, दुकान, कपड़े, सोना, चांदी, बर्तन, भूमि, भवन आदि की खरीदी कर सकते हैं। पुष्य नक्षत्र में सोना खरीदने का विशेष महत्व है। यह माना जाता है कि इस दिन सोना खरीदने से समृद्धि आती है। इस दौरान की गई खरीदी अक्षय रहेगी, जिसका कभी क्षय नहीं होता है।
इसलिए पुष्य नक्षत्र खरीदी का महामुहूर्त
ज्योतिर्विद श्याम अग्रवाल के मुताबिक पुष्य नक्षत्र के देवता बृहस्पति और शनिदेव इस नक्षत्र के दिशा प्रतिनिधि माने जाते हैं। बृहस्पति शुभता, बुद्धिमता और शनि स्थायित्व का प्रतीक हैं। इन दोनों का योग मिलकर पुष्य नक्षत्र को शुभ और चिर स्थायी बना देता है। पुष्य नक्षत्र को नक्षत्रों का राजा भी कहा जाता है। पुष्य को समृद्धिदायक और शुभ फल प्रदान करने वाला नक्षत्र बताया गया है।

खरीदी के दूसरे मुहूर्त धनतेरस पर रहेगा सर्वार्थ सिद्धि योग

पुष्य नक्षत्र के बाद खरीदी के दूसरे मुहूर्त धनतेरस पर इस बार सर्वार्थ सिद्धि योग रहेगा। 25 अटूबर को त्रयोदशी सुबह 7.08 बजे से शुरू होगी और 26 अक्टूबर को दोपहर 3.47 बजे समाप्त होगी। इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग होने से खरीदी-पूजन का महत्व बढ़ जाता है। इस दिन आयुर्वेद के देवता धन्वंतरि का पूजन किया जाता है। धनतेरस सुख-समृद्धि का प्रतीक भी है। इस दिन धन के देवता कुबेर का पूजन किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *