एसआईटी चीफ बोले- अपराध में शामिल हर नाम का खुलासा होगा

इंदौर/भोपाल। हनीट्रैप मामले में गठित नई एसआईटी के प्रमुख संजीव शमी बुधवार दोपहर को इंदौर पहुंचे। आते ही उन्होंने टीम के सदस्यों को गोपनीय स्थान पर बुलाया और जानकारी ली। शाम को वे पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचे और मीडिया से चर्चा में कहा, इस केस में गंभीरता बहुत ज्यादा है। अगर बड़े अधिकारी कंप्रोमाइज कर रहे हैं तो इसी को ध्यान में रखकर वरिष्ठ अधिकारियों को साथ लेकर स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) बनाई गई है। बड़े नाम और लोगों के शामिल होने के सवाल के जवाब में कहा जो भी अपराध में लिप्त होंगे सबके नाम सामने आएंगे। जहां तक कुछ और लोगों के नाम सामने आने का सवाल है या किसको कहां ले जाया जाएगा, यह सब जांच के दायरे में है। इसे अभी सार्वजनिक नहीं किया जा सकता है। सूत्रों के मुताबिक इस दौरान उन्होंने इंदौर पुलिस द्वारा एकत्रित सभी सबूतों, दस्तावेज और बयानों की जानकारी ली और एसआईटी में चयनित अधीनस्थ अफसरों को जिम्मेदारी सौंप दी। इधर, शाम को आरोपित मोनिका यादव के दौबारा बयान हुए। उसे फिर से भोपाल लेजाया गया।
ई-मेल से भेजें सूचनाएं गोपनीय रखा जाएगा नाम
उधर, एसआईटी ने आम नागरिकों से मदद मांगकर अपील की है कि अगर उनके पास इस मामले से जुड़ी कोई भी जानकारी है तो वे ई-मेल से भेज सकते हैं। एडीजी काउंटर इंटेलीजेंस और एसआईटी प्रमुख संजीव शमी ने नईदुनिया को बताया कि जांच में साक्ष्य जुटाने के लिए लोगों से उनके पास उपलब्ध सूचनाओं को लेने के लिए एक ई-मेल आईडी info.sit@mppolice.gov.in बनाई है। शमी ने सूचना देने वाले व्यक्ति की जानकारी को गोपनीय रखने का भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा, जिन लोगों के पास वीडियो-तस्वीर या सरकारी दस्तावेज हों वे मेल कर सकते हैं, जिससे जांच में सहयोग मिलेगा।
सीआईडी ने दर्ज किया केस
इधर, बुधवार रात को सीआईडी ने मामले में केस दर्ज कर लिया है। अभी पलासिया थाने ने शून्य पर कायमी की थी, अब एफआईआर सीआईडी में शिफ्ट हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *