शौचालयों में गांधीजी के चश्मे का प्रतीक चिह्न लगाने पर कमलनाथ के मंत्री ने जताई आपत्ति

भोपाल। मध्य प्रदेश के सामान्य प्रशासन मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने शौचालयों में गांधीजी के चश्मे का प्रतीक चिन्ह- लगाने पर आपत्ति दर्ज कराते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ को चिट्ठी लिखी है। मंत्री ने मुख्यमंत्री से गंदगी वाले स्थानों पर चश्मे के प्रतीक चिन्ह- के इस्तेमाल पर पूरी तरह से रोक लगाने की मांग की है। मालूम हो, स्वच्छता अभियान के तहत शौचालयों, कूड़ादान और गंदगी वाले स्थलों पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के चश्मे के प्रतीक चिन्ह- प्रदर्शित किया जा रहा है। इसे लेकर ही मंत्री ने आपत्ति जताई है।
केंद्र सरकार की स्वच्छता योजना का प्रतीक चिन्ह- महात्मा गांधी का चश्मा है। मुख्यमंत्री को लिखी चिट्ठी में डॉ. सिंह ने लिखा है कि वर्तमान स्थिति राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की गरिमा और सम्मान के प्रतिकूल है। इस पर प्रदेश के बुद्धिजीवियों, वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों ने शिकायत करते हुए अप्रसन्न्ता व्यक्त की है। मंत्री ने लिखा कि गंदगी वाले स्थानों पर राष्ट्रपिता के चश्मे के प्रतीक चिन्ह- के प्रदर्शन पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाए। मंत्री ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया है कि स्वच्छ सार्वजनिक स्थलों, धार्मिक-शैक्षणिक स्थानों, सांस्कृतिक, ऐतिहासिक, पुरातात्विक धरोहरों के आसपास, शासकीय कार्यालयों, चिकित्सालयों आदि में महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत मिशन के प्रतीक चिन्ह- का प्रदर्शन किया जा सकता है।
बता दें कि इसी साल दो अक्टूबर को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती है। इस मौके पर केवल भारत ही नहीं दुनिया के कई देशों में कार्यक्रम आयोजित होंगे। इसकी शुरुआत संयुक्त राष्ट्र संघ ने कर दी। यूएन ने महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर एक डाक टिकट जारी किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *