बैतूल सहित 32 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, आधा दर्जन से ज्यादा जिलों में स्कूल बंद

भोपाल/बालाघाट/खरगोन। पिछले 24 घंटों से मध्य प्रदेश में आफत की बारिश हो रही है। भारी बारिश के चलते सात जिलों में स्कूलों की छुट्टी कर दी है। भोपाल, विदिशा, रायसेन, देवास, उज्जैन और जबलपुर, बालाघाट शामिल है। मौसम विभाग ने प्रदेश के 32 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। आज सुबह से भी कई जिलों में भारी बारिश हो रही है। इसके चलते कई नर्मदा, ताप्ती, वैनगंगा नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है।
खरगोन में नर्मदा में बाढ़ जैसे हालात
भारी बारिश के चलते ऊपरी हिस्सों में बने बांधों के गेट खोलने के बाद नर्मदा में इस वर्ष चौथी बार बाढ़ की स्थिति बनी है। रविवार की देर रात से नर्मदा के बढ़ते जलस्तर से सोमवार की सुबह इस वर्ष का सबसे ज्यादा जलस्तर दिखाई दिया। करीब 6 मीटर तक बढ़े जलस्तर से नर्मदा के सारे घाट जलमग्न हो गए हैं। नर्मदा मार्ग तक पानी पहुंच गया है। तट पर लगी सभी दुकानों को हटाया गया है।
नर्मदा पर बने मोरटक्का ब्रिज पर आवाजाही बंद
मालवा-निमाड़ में हो रही भारी बारिश के चलते ओंकारेश्वर में नर्मदा का जलस्तर बढ़ गया है। इच्छापुर स्टेट हाईवे पर बने मोरटक्का ब्रिज पर आवागमन बंद कर दिया गया है। दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतारें लगी हैं। पुलिस प्रशासन की टीम फोर्स के साथ मौजूद है। भारी बारिश के चलते होशंगाबाद के तवा बांध, जबलपुर के बरगी डैम के अलावा इंदिरा सागर बांध का पानी ओंकारेश्वर डैम में आने के चलते बांध के बीस गेट खोलने पड़े हैं। बांध से 18 हजार क्यूसेक पानी छोड़ने के बाद नर्मदा का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है। हालात ऐसे हैं कि नर्मदा का पानी बाहेती धर्मशाला तक पहुंच गया है। इसके चलते धर्मशाला के नीचे के कमरे डूब गए हैं। खरगोन जिले में भी बारिश के चलते नर्मदा पूरे उफान पर है। सनावद के नर्मदा पुल पर अभी भी वाहनों की आवाजाही पर प्रतिबंध है।
मोरटक्का पुल से नर्मदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। प्रशासन ने एहतियात बरतते हुए पुल को फिलहाल आवागमन के लिए बंद कर दिया है एवं दोनों तरफ पुलिस लगा दी गई है।
नीमच में मूसलाधार बारिश शुरू
रामपुरा जिला नीमच में कल हुई जोरदार बारिश के बाद आज सुबह 6:00 बजे से मूसलाधार बारिश शुरू हो गई है।
बालाघाट में बाढ़ जैसे हालात
बालाघाट जिले में भी पिछले 24 घंटों से रूक-रूककर बारिश जारी है। लगातार हो रही बारिश के चलते भीमगढ़ बांध से वैनगंगा नदी में पानी छोड़े जाने से हालात बेकाबू हो गए हैं। नदी के मुहाने बसे गांवों में पानी घुस गया है। प्रशासन गोंगलाई और कुम्हारी गांव में राहत और बचाव कार्य में जुटा हुआ है। लालबर्रा के मोहगांव में 38 मकान खाली कराए गए। छोटी कुम्हारी में बाढ़ आने से दर्जन भर से अधिक मकान खाली कराने पड़ गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *