साध्वी प्रज्ञा के बेतुके बयान पर कांग्रेस नेता शोभा ओझा का जवाब, बोलीं- मानसिक संतुलन खो बैठी हैं

भोपाल। अपने विवादित बयानों के चलते सुखियों में रहने वाली भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने एक बार फिर अपने विवाद से बखेड़ा खड़ा कर दिया है। आज पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली और पूर्व मुख्यमंत्री बाबुलाल गौर की श्रद्धांजलि सभा मे भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने विपक्ष द्वारा भाजपा के नेताओं पर मारक शक्ति के प्रयोग की आशंका जताई। इसके बाद मचे बवाल पर पार्टी ने साध्वी के बयान से पल्ला झाड़ लिया। वहीं पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने साध्वी को ऐसे बयान नहीं देने की समझाईश दी। साध्वी के इस बयान को लेकर जब कैलाश विजयवर्गीय, प्रभात झा, गोपाल भार्गव सहित अन्य नेताओं से पूछा गया तो उन्होंने कोई प्रतिक्रिया देने से इंकार कर दिया।
कांग्रेस मीडिया सेल की अध्यक्ष शोभा ओझा ने भी साध्वी प्रज्ञा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि,” साध्वी का कांग्रेस पार्टी को लेकर दिया गया बयान बेहद आपत्तिजनक है। वो अपना मानसिक संतुलन खो चुकी हैं। उन्हें इलाज की जरूरत है और उनके लिए सही जगह पागलखाना है।”

सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने एक किस्सा सुनाते हुए कहा कि, “मैं जब चुनाव लड़ रही थी तब एक महाराज जी आए थे उन्होंने कहा था ये बहुत बुरा समय चल रहा है विपक्ष एक मारक शक्ति का प्रयोग आपकी पार्टी और उसके नेताओं के लिए कर रहा है। ऐसे में आप सावधान रहें। इसके बाद मैं यह बात भूल गई थी, लेकिन अब जब मैं ये देखती हूं कि हमारी पार्टी के नेता यूं एक के बाद एक जा रहे हैं तो मुझे उन महाराज जी की बात याद आ रही है। भले आप विश्वास करे या न करें पर यही सत्य है और ये हो रहा है।” हालांकि उनके इस बयान पर पार्टी के ही कई नेताओं ने किनारा कर लिया है। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव और राष्ट्रीय महासचिव ने साध्वी प्रज्ञा के इस बयान पर कुछ भी कहने से इंकार कर दिया है। वहीं कांग्रेस ने भी उनके इस बयान पर नाराजगी जताई है।

बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान भी उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया था। इतना ही नहीं उन्होंने मुंबई आतंकी हमले में शहीद हुए एटीएस चीफ हेमंत करकरे को लेकर भी आपत्तिजनकर बयान दिया था। गांधीजी को लेकर दिए गए बयान पर तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कड़ी नाराजगी जताई थी। हालांकि इसके बाद भी साध्वी प्रज्ञा के बेतुके बयान नहीं थमे थे। कुछ दिनों पहले ही उन्होंने सीहोर में अपने कार्यकर्ताओं के सामने कहा था कि वो नाली साफ करने के लिए सांसद नहीं बनीं है। उनके इस बयान के बाद काफी बवाल मचा था। पार्टी अध्यक्ष ने उन्हें दिल्ली तलब कर फटकार लगाई थी। लेकिन इस फटकार का भी भी उनपर कोई असर नहीं पड़ा और आज फिर से साध्वी प्रज्ञा ने अपने बयान से नया विवाद खड़ा कर दिया।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *