संभावित आत्मघाती हमलों और पाकिस्तानी घुसपैठ की वजह से छोटी हुई अमरनाथ यात्रा?

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती और फिर अमरनाथ यात्रा छोटी किए जाने से घाटी से लेकर दिल्ली तक कई अटकलें हवा में तैर रही हैं। केंद्र सरकार और जम्मू कश्मीर के राज्यपाल हालांकि सभी अफवाहों को खारिज कर चुके हैं, लेकिन सवाल फिर भी बाकी है कि अचानक ऐसा क्या हुआ कि सरकार को श्रद्धालुओं को अमरनाथ यात्रा से लौट जाने और फिर माछिल यात्रा को बंद कर देना पड़ा। सूत्रों के मुताबिक यह कदम इंटेलिजेंस को मिले बेहद अहम इनपुट्स के आधार पर उठाया गया है। इनपुट्स के मुताबिक आतंकवादी घाटी में कई आत्मघाती हमलों की फिराक में हैं। सीमा पार भी आतंकियों की हलचल देखी गई है। जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर का बड़ा भाई भी पाक अधिकृत कश्मीर के मुजफ्फराबाद में घूमता देखा गया है।
अमरनाथ मार्ग पर बारूदी सुरंग ने किए कान खड़े
अमरनाथ यात्रा मार्ग के पास से पाकिस्तान में बनी बारूदी सुरंग का सामान और अमेरिकी स्नाइपर राइफल मिलने से भी सुरक्षा बलों को अलर्ट पर रखा गया है। सुरक्षाबलों को दूरबीन व आईईडी के साथ ही विस्फोटकों का एक गुप्त भंडार भी मिला था। वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया था कि अमरनाथ यात्रा मार्ग पर चलाए गए व्यापक तलाशी अभियान में गोला-बारूद बरामद किया गया। चिनार कॉर्प्स कमांडर, लेफ्टिनेंट जनरल के. जे. एस. ढिल्लो ने एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में बताया, ‘व्यापक खोजबीन के बाद पाकिस्तान की फैक्ट्री में बनी बारूदी सुरंग, टेलिस्कोप के साथ एक स्नाइपर राइफल, इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइसेस (IED), IED कंटेनर, IED सर्किट बोर्ड के साथ एक रिमोट कंट्रोल मिला है।’
सक्रिय हैं 270 से ज्यादा आंतकी!
इंटेलिजेंस को मिले इनपुट्स के मुताबिक इस वक्त घाटी में करीब 270-275 आतंकी सक्रिय हैं। इनमें से 115 विदेशी आतंकी हैं और करीब 162 लोकल आतंकी हैं। इंटेलिजेंस सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान की तरफ से करीब 200 आतंकी घुसपैठ की फिराक में हैं। आतंकियों के 14 से 16 लॉन्च पैड हैं, जिनसे आतंकी घुसपैठ की कोशिश कर सकते हैं। दो दिन पहले ही आर्मी ने घुसपैठ की कोशिश को नाकाम किया है।
सीजफायर उल्लंघन की आड़ में घुसपैठ
तीन दिन पहले जब अचानक पाकिस्तान की तरफ से सीजफायर उल्लंघन में तेजी आई, तो उस समय घुसपैठ की कोशिश की गई थी। सूत्रों की मानें तो आतंकी पहले साउथ ऑफ पीर पंजाल से घुसपैठ की कोशिश करते थे, लेकिन इस बार नॉर्थ ऑफ पीर पंजाल से यह कोशिश की जा रही है। यह भी कहा जा रहा है कि पाकिस्तान ने अपनी सीमा में कुछ नए बंकर भी बनाए हैं। पाकिस्तान आर्मी ने फॉरवर्ड एरिया में तैनाती भी बढ़ाई है। 10-12 ट्रूप अतिरिक्त तैनात किए गए हैं।
सीमा पार घूम रहा है अजहर का भाई
इंटेलिजेंस एजेंसी को जानकारी मिली है कि जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के बड़े भाई इब्राहिम अजहर को पिछले महीने पाक अधिकृत कश्मीर के मुजफ्फराबाद में देखा गया था। बता दें कि इब्राहिम अजहर 1999 में हुए प्लेन हाइजैक का मास्टरमाइंड है। इब्राहिम काफी समय से घाटी में घुसपैठ की कोशिश कर रहा है, ताकि वह अपने बेटे की मौत का बदला ले सके। इब्राहिम का बेटा उस्मान हैदर जम्मू-कश्मीर में एक सिक्यॉरिटी ऑपरेशन में मारा गया था।
इब्राहिम के बेटे ने जम्मू-कश्मीर में अक्टूबर 2018 में घुसपैठ की थी और सुरक्षा बलों ने अवंतीपोरा में 30 अक्टूबर को मार गिराया था। इसके अलावा मसूद अजहर के साले अब्दुल रशीद के बेटे तल्हा रशीद को भी सुरक्षा बलों ने पुलवामा में नवंबर 2017 में मार गिराया था।
सूत्रों का कहना है कि इब्राहिम ने अपने काडर को तैयार करते हुए कहा कि वह भारतीय सेना से लड़ते हुए अपनी जान देना चाहता है, जैसा कि उसके बेटे ने किया था। एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि इब्राहिम को लेकर मिली गोपनीय जानकारी भी कश्मीर में सरकार की सक्रियता का बड़ा कारण हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *