मुंबई से पुणे का सफर 23 मिनट में, 70 हजार करोड़ के हाइपर लूप प्रोजेक्ट को मंजूरी

मुंबई: दुनिया में हाइपर लूप को भविष्य के यातायात की तस्वीर बदलने वाली तकनीकी के तौर पर देखा जा रहा है। अब इस विदेशी तकनीक पर आधारित प्रोजेक्ट को महाराष्ट्र कैबिनेट ने बुधवार को मंजूरी दे दी। 70 हजार करोड़ की हाइपर लूप परियोजना के साकार होने के बाद मुंबई से पुणे के बीच की करीब 118 किलोमीटर की दूरी को सिर्फ 23 मिनट में पूरा किया जा सकेगा। अभी इस दूरी को तय करने में 3-4 घंटे लगते हैं। प्रोजेक्ट को पूरा होने में 6-7 वर्षों का समय लगेगा। बता दें कि हाइपर लूप की स्पीड 496 किलोमीटर प्रतिघंटा है।
हाइपर लूप क्या है?

हाइपरलूप बुलेट ट्रेन का भी एडवांस वर्शन है। इसमें छोटे-छोटे कैप्सूल को विद्युत मैगनेट के ऊपर एक ट्यूब में चलाते हैं, जिसमें से लगातार हवा बाहर निकाली जाती है। कैप्सूल का डिजाइन कुछ ऐसा रहता है, जिसमें सामने की तरफ एक कंप्रेसर फैन रहता है। यह कम दबाव की हवा को खींचकर ट्यूब के पीछे फेंकता है। स्की में लगे चुंबक और इलेक्ट्रोमैग्नेटिक झटके से ‘हाइपरलूप’ के पॉड को गति दी जाती है। जब कैप्सूल को रोकना होता है, तब कंप्रेसर को बंद कर देते हैं, जिससे ट्यूब के सामने कम दबाव वाली हवा कैप्सूल को रोकने लगती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *